दिग्विजय सिंह ने देर रात पुरानी जेल पहुंचकर किया स्ट्रांग रूम का दौरा

स्ट्रांग रूम का CCTV कैमरा बंद होने पर हुआ था बवाल

भोपाल: भोपाल में स्ट्रांग रूम के बाहर बीजेपी और कांग्रेस कार्यकर्ता डेरा डाले हुए हैं. 14 मई को भोपाल से बीजेपी प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने भी देर रात स्ट्रांग रूम का दौरा किया. इसी बीच भोपाल से कांग्रेस के लोकसभा प्रत्याशी दिग्विजय सिंह देर रात पुरानी जेल पहुंचकर स्ट्रांग रूम का दौरा किया.

साध्वी प्रज्ञा ने करीब 40 मिनट तक पुरानी जेल परिसर में ईवीएम की सुरक्षा का जायजा लिया और स्ट्रांग रूम भी चेक किया. स्ट्रांग रूम के बाहर तैनात कार्यकर्ताओं से मुलाकात की. साध्वी के साथ पूर्व मंत्री उमाशंकर गुप्ता भी मौजूद थे. स्ट्रांग रूम का निरक्षण कर बाहर आई साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, गला खराब होने के कारण बयान नहीं दिया

घटना 16 मई की है. भोपाल की पुरानी जेल में बने स्ट्रांग रूम में बुधवार देर रात 40 सेकंड तक सीसीटीवी कैमरा बंद होने के कारण बीजेपी प्रत्याशी प्रज्ञा ठाकुर और दिग्विजय सिंह के समर्थकों ने हंगामा कर दिया था. प्रशासन ने बीजेपी और कांग्रेस के एक-एक प्रतिनिधि को स्ट्रांग रूम में अंदर ले जाकर ईवीएम दिखाई उसके बाद मामला शांत हुआ था.

चुनाव आयोग पहुंचा विपक्ष

ईवीएम एवं वीवीपीएटी के मुद्दे पर कांग्रेस, सपा, बसपा, तृणमूल कांग्रेस सहित 22 प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं ने मंगलवार को चुनाव आयोग का रुख किया और उससे यह आग्रह किया कि मतगणना से पहले चुनिंदा मतदान केंद्रों पर वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान किया जाए.

विपक्षी दलों ने यह भी कहा कि यदि किसी एक मतदान केंद्र पर भी वीवीपीएटी पर्चियों का मिलान सही नहीं पाया जाता तो संबंधित विधानसभा क्षेत्र में सभी वीवीपीएटी पर्चियों की गिनती की जाए. विपक्षी नेताओं ने कई स्थानों पर स्ट्रांगरूम से ईवीएम के कथित स्थानांतरण से जुड़ी शिकायतों पर कार्रवाई की मांग की है.

विपक्षी दलों द्वारा इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) की विश्वसनीयता पर सवाल उठाने को बीजेपी एवं केंद्र सरकार के मंत्रियों ने ‘डरे हुए लोगों की हार की हताशा’ बताया और कहा कि विपक्षी दलों को ईवीएम एवं चुनाव आयोग की प्रमाणिकता पर सवाल उठाने की बजाए सम्मानपूर्वक तरीके से हार को स्वीकार करना चाहिए.

Back to top button