अभिनेता दिलीप कुमार की तबीयत नाजुक, पत्नी शायरा बानू को पहचानना मुश्किल

1994 में उनको सिनेमा का सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहेब फाल्के मिला

मुंबई :

हिंदी सिनेमा जगत के सबसे बड़े सितारे 95 वर्षीय दिलीप कुमार की तबीयत अभी इतनी नाजुक है कि वह खुद अपनी पत्नी शायरा बानू तक को पहचान नहीं पा रहे हैं ।

95 साल के दिलीप कुमार को जिंदा रखना पत्नी सायरा बानू के लिए मिशन से कम नहीं रह गया है। इस परिवार के बेहद करीबी ने बताया ‘वे किसी को पहचान नहीं पा रहे हैं, अपनी पत्नी सायरा तक को वे भूल चुके हैं।

वे बात करने और चलने-फिरने में भी असमर्थ हैं। उन्हें बाथरूम तक भी ले जाना पड़ रहा है। वे किसी भी तरह से अब इस दुनिया से जुड़े महसूस नहीं हो रहे हैं।’

एक अन्य सूत्र का कहना है कि सायरा अपनी सारी बचत उन्हें जिंदा रखने में खर्च कर रही हैं। बता दें कि पिछले महीने ही उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था और जल्द ही उनकी वहां से छुट्टी भी हो गई थी।

11 दिसंबर, 1922 को पाकिस्तान के पेशावर में जन्मे दिलीप कुमार को हिंदी सिनेमा के दिग्गज अभिनेताओं में माना जाता है।

पहली फिल्म ‘ज्वार भाटा’ से लेकर 1993 में रिलीज हुई किला तक दिलीप कुमार पांच दशकों से भी ज्यादा वक्त तक ट्रेजडी किंग की छवि के साथ सुपर स्टार के तौर पर छाए रहे। 1994 में उनको सिनेमा का सर्वोच्च पुरस्कार दादा साहेब फाल्के मिला।

दिलीप कुमार दिसंबर में अपना 96वां जन्मदिन मनाने जा रहे हैं। पिछले कुछ साल से अपनी तबीयत के कारण उनका अस्पताल आना-जाना लगा हुआ है।

पिछले साल 14 अगस्त को तबीयत खराब होने पर भी उन्हें कुछ दिन की भर्ती कराया गया था। तब उनके चहेते शाहरुख खान बेटी सुहाना के साथ उनसे मिलने पहुंचे थे।

इसके बाद भी जब-जब दिलीप साहब की तबीयत खराब हुई, तब-तब शाहरुख उनसे मिलने जरूर पहुंचे।

Back to top button