छत्तीसगढ़राज्य

पुलिस महानिदेशक ने की सरगुजा संभाग में कानून व्यवस्था की समीक्षा

पुलिसिंग में सुधार ना होने पर जिम्मेदारी तय कर होगी कार्यवाही: अवस्थी

रायपुर: पुलिस महानिदेशक डीएम अवस्थी ने आज सरगुजा प्रवास के दौरान सरगुजा संभाग के सभी पुलिस अधीक्षकों एवं राजपत्रित अधिकारियों की बैठक ली।

श्री अवस्थी ने संभाग के पुलिसिंग के स्तर में सुधार की आवश्यकता बताई और पुलिस महानिरीक्षक को रंेज के सभी नगर पुलिस अधीक्षक एवं अनुविभागीय अधिकारियों की प्रत्येक माह अनिवार्य बैठक लेकर उनके कार्यों की समीक्षा करने को कहा।

इस अवधि में सभी अधिकारियों की जिम्मेदारी तय की जायेगी, और कार्य में सुधार नहीं होने पर उनके विरूद्व वार्षिक गोपनीय चरित्रावली में प्रतिकूल टिप्पणी की जावेगी। पुलिस महानिदेशक ने कार्यों में सुधार के लिये एक माह का समय दिया है और माह अप्रैल में पुनः सरगुजा संभाग में आकर पुलिसिंग के स्तर की समीक्षा करेंगे।

बैठक के दौरान उन्होंने अपने अनुभवों को साझा कर पुलिस अधिकारियों के मनोबल को उंचा बनाये रखने के लिए प्रेरित किया। श्री अवस्थी ने सभी अधिकारियों को निर्देशित किया कि पुलिस की छवि समाज व लोगांे के बीच अच्छी होनी चाहिये और सभी निर्धारित कार्यों को पूरी जिम्मेदारी व जवाबदेही के साथ करना चाहिए।

माह अप्रैल में पुनः सरगुजा संभाग के दौरे पर जिलेवार समीक्षा की जावेगा और तब तक पुलिस के कार्यों में सुधार परिलक्षित होना चाहिये। संभाग मुख्यालय होने के कारण अम्बिकापुर के ट्रफिक थाना को पूर्ण स्वीकृति दिलाने शासन को प्रस्ताव भेजने के निर्देश पुलिस महानिदेशक ने दिये।

इस अवसर पर अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आर. के. विज भी उपस्थित थे, उन्होंने जिले में समस्त निर्माण कार्यों के गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने को कहा, उन्होंने बताया कि 02 वर्षों में 50 नये थानेध्चौकी भवन स्वीकृत किये गये हैं।

थानेध्चौकियों के कार्यों मंे सुधार और गति के लिए 300 कम्प्यूटर सेट और प्रिन्टर उपलब्ध कराये जा रहे हैं। प्रदेश के 50 प्रतिशत थानों को इन्वेस्टिगेशन बॉक्स भी दिया जा रहा है। ब्न्ळ नम्बरों पर अब डाटा भी फ्री किया जा रहा है।

बढते सायबर अपराधों की चुनौतियों से निपटने के लिये संसाधनों को और मजबूत किया जा रहा है। इस हेतु सभी संभागों में एक थाना को ‘नोडल थाना’ घोषित कर सायबर अपराधियों को पकड़ने एकीकृत केन्द्र के रूप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जवानों और पुलिस कर्मचारियों को तनाव से मुक्त रखने के लिये थानों में बॉलीबाल कोर्ट विकसित किये जा रहे हैं, इसमें आम जनता भी शामिल हो सकेंगे जिससे इनके बीच आपसी समझ और तालमेल भी विकसित होंगे।

इस बैठक में सरगुजा रेंज के पुलिस महानिरीक्षक रतन लाल डांगी, पुलिस अधीक्षक सरगुजा आशुतोष सिंह, पुलिस अधीक्षक कोरिया गिरजा शंकर जायसवाल, पुलिस अधीक्षक बलरामपुर टी.आर. कोशिमा, पुलिस अधीक्षक सूरजपुर राजेश कुकरेजा, पुलिस अधीक्षक जशपुर शंकर लाल बघेल एवं रेंज के अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Tags
Back to top button