महासमुंद में आफत की झड़ी, खाली कराई गई बस्ती

नदी-नाले उफान पर, बाढ़ का खतरा

महासमुंद: पिछले 36 घंटे से लगातार हो रही बारिश से जिले के अधिकतर नदी-नाले उफान पर आ गए। कई गांवों का संपर्क भी टूट गया। जोंक नदी के पुराने पुल के ऊपर पानी बहने से दिनभर आवागमन बाधित रहा। अछोला और खड़सा में महानदी का पानी 40 घरों में घुस गया। आसपास के लोगों ने उन्हें वहां सुरक्षित निकाला और उनके लिए भोजन व रहने की व्यवस्था की।
सबसे ज्यादा बारिश पिथौरा ब्लॉक में हुई। बारिश के कारण व्यापार पूरी तरह से प्रभावित हुआ। लोग घर से निकल नहीं पाए। जिला मुख्यालय से लगे भलेसर मार्ग और सरगी नाला उफान पर होने की वजह से फिंगेश्वर-राजिम रोड भी बंद हो गया है।

वहीं अछोला, खड़सा में भी महानदी का पानी घुस गया। बारिश की स्थिति का जायजा लेने के लिए पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह भी कई गांवों में पहुंचे। खड़सा, कमार डेरा में पानी घुसने से पूरी बस्ती खाली कराई गई। सांकरा के जोंक नदी के पुल के आस-पास स्थित खेत पानी में डूब गए हैं।

एसडीओपी पिथौरा मौके पर पहुंचकर पुराने पुल से आवाजाही न करने की सलाह दी। सिरपुर क्षेत्र में भी भारी बारिश होने की वजह से स्कूल बंद रहे। जानकारी के मुताबिक बसना विधानसभा के ग्राम जेवरा में 2015 में 15 लाख रुपए की लागत से बना पुलिया मात्र 3 वर्षों में धराशायी होने की खबर है। महानदी किनारे हजारों एकड़ खेत जलमग्न हो गए हैं।

Back to top button