जमीन की फर्जी रजिस्ट्री कराने का खुलासा : भू माफिया व सरकारी तंत्र की मिलीभगत से हो रहे भ्रष्टाचार..?

जमीन की फर्जी रजिस्ट्री कराने का मामला

बेमेतरा : बेमेतरा जिले से जमीन की फर्जी रजिस्ट्री कराने का मामला प्रकाश में आया है वहीँ प्रार्थी का आरोप है कि जिला प्रशासन को यह जानकारी महीनों पहले से है किंतु अभी तक कोई इस मामले में कोई भी कार्यवाही नहीं की गई है..जिला प्रशासन को महीनों पहले से है मामले की जानकारी होने के बावजूद  अभी तक कोई भी कार्यवाही न होना संदेह के दायरे में आता है।

दरअसल मिली जानकारी के मुताबिक  बेमेतरा जिला मुख्यालय से लगे ग्राम गुनरबोड़ पटवारी हल्का नंबर 49 खसरा नंबर 440 रकबा 1.08 हेक्टेयर को 1.28 हेक्टेयर का फर्जी रजिस्ट्री कराने का खुलासा हुआ है। इस मामले की शिकायत पुलिस से की गई है। वहीँ जानकारी के अनुसार, दस्तावेज के रिकार्ड में हेराफेरी कर रजिस्ट्री कराने की जानकारी उक्त भूमि की नकल पंजीयन कार्यालय से निकाले जाने पर मिली।Disclosure of fake land registry: Corruption happening with the connivance of land mafia and government machinery..?

रजिस्ट्री बेमेतरा उप पंजीयक कार्यालय में 17 जुलाई 2002 को हुई थी।

आरोप है कि इस मामले में 0.20 हेक्टेयर ज्यादा रजिस्ट्री दस्तावेज में कूटरचित गड़बड़ी कर की गई है। यह रजिस्ट्री बेमेतरा उप पंजीयक कार्यालय में 17 जुलाई 2002 को हुई थी। जमीन विक्रेता जगदीश प्रसाद कुर्मी पारा बेमेतरा व खरीददार जय प्रकाश जाट गुनरबोड़ है जिसका बाजार भाव 1 लाख 09 हजार रुपए के हिसाब से रजिस्ट्री हुई है।Disclosure of fake land registry: Corruption happening with the connivance of land mafia and government machinery..?

जानकारी के अनुसार, राजस्व सर्वेक्षण रिपोर्टव वर्तमान रिकार्ड में 1.08 हेक्टेयर भूमि है। जबकि रजिस्ट्री 1.28 हेक्टेयर की हुई है। इस आधार पर दूसरे नाम की लगभग आधा एकड़ भूमि को अन्य के द्वारा बेच दिए जाने से खरीददार की पत्नी सुमित्रा जाट ने उस भूमि पर काबिज है।Disclosure of fake land registry: Corruption happening with the connivance of land mafia and government machinery..?

उक्त मामले में बड़ी कार्यवाही की जरूरत है ताकि बरसों से जमे भू माफिया व सरकारी तंत्र की मिलीभगत से हो रहे भ्रष्टाचार व अपराध पर लगाम लगे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button