जन्मपत्री से रिश्तों का विवेचन – बालक भविष्य की एक अमूल्य इकाई

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव:

एक बालक की जीवन यात्रा गर्भ में प्रवेश के साथ ही प्रारम्भ हो जाती है। हम गर्भ के रुप में अपना जन्म शुरु करते हैं और इस दौरान कई जन्मों की यात्रा करते हुए हम इस जीवन का आनंद लेते है।

हम धरा पर जन्म के साथ एक कहानी लेकर आते है, जिस कहानी में अनेक किरदार होते है, जो हमारे आसपास के लोग, हमारे परिवार के लोग और हमारे मित्र होते है। यह कहानी हमारे मरण के साथ समाप्त होती है।

इस कहानी को एक बेहतर रुप देने के लिए हम अपने बच्चों का बेहतर से बेहतर पालन-पोषण करने का प्रयास करते हैं। बच्चों का पालन पोषण करते समय हम सभी का प्रयास रहता है कि यथा संभव हम उन्हें एक बेहतर नागरिक बना पायें और बच्चों को सफल बनाने में हमारा योगदान उत्तम रहें, परन्तु सदैव ऐसा संभव नहीं हो पाता है।

कई बार परिस्थितियां और कई अन्य कारण हमारे इन प्रयासों को सफल नहीं होने देते हैं। इस स्थिति में सवाल यह उठता है कि हम क्या करें कि हम कुशल माता-पिता बन सकें? ज्योतिष विद्या का सहयोग बेस्ट पेरेंटिंग में सहयोगी हो सकता है।

बालक भविष्य की एक अमूल्य इकाई

अपने बच्चे को देखते समय क्या आपके मन में यह विचार आया है कि इसकी उत्पत्ति का क्या कारण है? क्या आप कभी इस बात पर विचार करते है कि यह आपके और अपने जीवन की अमूल्य इकाई कैसे बन सकता है? अपने बच्चे की उपस्थिति में, क्या आप उन संघर्षों और मुद्दों से जूझ रहे हैं जिन्हें आपने पहले कभी नहीं जाना है?

क्या आपने कभी महसूस किया है कि आप और आपका बच्चा वर्तमान समय में अनेक भूमिकाएं निभाते है। आपने जीवन भर के लिए एक-दूसरे के साथ एक-दूसरे के लिए भूमिका निभाना है। क्या आपने कभी इस संभावना पर विचार किया है कि आप और आपका बच्चा एक दूसरे की सहायता के लिए इस धरा पर है।

जीवन का सच्चा मार्गदर्शक

यदि आपने पहले कभी इन सवालों पर विचार नहीं किया है, तो कभी समय निकाल कर इस विषय पर विचार करें। माता-पिता का रिश्ता एक ऐसा रिश्ता हैं जो जन्म से पूर्व ही निर्धारित हो जाता है। जरा कल्पना करें – आपके बच्चे ने आपको चुना, और आपने अपने बच्चे को चुना।

ये निर्णय एक आत्मा के स्तर पर किए गए थे जहाँ कोई सचेत स्मरण नहीं था। माता-पिता और बालक का रिश्ता जटिल है, जो हमें आध्यात्मिक विकास के लिए चुनौतीपूर्ण और आवश्यक सबक प्रदान करता है। हम इस संपूर्ण जीवन में क्या सीखते हैं, यह हमारी आत्मा की यात्रा के विकास में काफी महत्व रखता है।

जन्मपत्री से रिश्तों का विवेचन

जन्मपत्री बहुत खूबसूरती के साथ माता-पिता और बच्चे के रिश्ते को दर्शाता है। प्रत्येक जन्मपत्री में ग्रहों की स्थिति यह कहती है कि कुंडली के योगों के रुप में इसमें हम रहते है, और हमारा सारा जीवन चक्र भी रहता है, सहज शब्दों में इसे समझे थे व्यक्ति और उसका सारा संसार कुंडली में समाहित रहता है।

इसी प्रकार जन्मपत्री में स्वयं जातक और जातक के माता-पिता समाहित होते है। इसमें बालक का जीवन माता-पिता और माता-पिता के जीवन में बालक एक अटूट बंधन में बंधा हुआ है।

कुंडली विश्लेषण एक ऐसा दिव्य तरीका है जिसे सहयोग से हम अपने माता पिता और हमारे माता-पिता हमें जान सकते है। इस प्रकार जन्मपत्री हमारी सबसे बड़ी क्षमता विकसित करने में सहायता कर सकती है।

कुंडली का डी एन ए

प्रत्येक जन्मपत्री में ग्रह स्थिति, ग्रह योग और ग्रह युति होती है जिसे कुंडली का डी एन ए भी कहा जा सकता है जो इस जन्म के रिश्तों, पूर्वजन्म के रिश्तों और आने वाले जीवन का कथा लिखी होती है। कुंडली के इस पैटर्न को हम काफी हद तक अपने माता-पिता की कुंडली में भी देख सकते है।

जन्म कुंडली आत्मा की यात्रा का एक नक्शा है, जिसका ज्ञान हमारे जीवन को प्रबुद्ध और बदल सकता है। आपके बच्चे में छुपी अद्वितीय योग्यता, ऊर्जा और विशिष्टता के पैटर्न को समझने के बाद, आप उसका पहले से बेहतर पालन-पोषण कर सकते है। इस प्रकार आप उन्हें जीवन की इस भूलभुलैया से बाहर लाकर सफलता और उन्नति के नए आयाम दे सकते है।

जन्मपत्री से गुण-अवगुण की जानकारी

माता-पिता बच्चे की धारणा से उनके पालन-पोषण के बारे में बहुत कुछ जान सकते हैं। जब हम बच्चे की जन्मपत्री को देखते हैं, उसमें छुपे गुण और अवगुणों को जनाते हैं तो हम उसे बेहतर रुप में समझ सकते है।

जन्मपत्री मात्र एक जनपत्री ना होकर हमारे सामने उनकी आत्मा का एक नक्शा होता है, जिसमें बालक के मनोवैज्ञानिक मेकअप, चरित्र, भावनात्मक उपहार, चुनौतियां, कर्म, धर्म, आत्मा घाव, उपचार क्षमता और बहुत कुछ शामिल हैं।

यह अमूल्य ज्ञान अभिभावक को उनकी भूमिका में कार्यवाहक, संरक्षक और शिक्षक के रूप में सहायता कर सकता है। अपने बच्चों के इन बहुमुखी पहलुओं को पहचान कर हम उन्हें हमारी और स्वयं उनकी दिव्य पहचान के प्रति जागरूक कर सकते हैं या इसमें उनकी सहायता कर सकते है।

बच्चों के पालन-पोषण में उपयोगी

जन्मपत्री का विश्लेषण करने में एक योग्य ज्योतिषी हमारी बहुत अच्छॆ से सहायता कर सकता है। इसके द्वारा माता-पिता के व्यवहार को यथा अनुरुप बदलने के लिए कह सकता है जो बालक की भलाई के लिए आवश्यक हो। साथ ही माता-पिता को यह पहचानने में मदद करता है कि वे अपने बच्चे के विकास और खुशी में किस प्रकार महत्वपूर्ण योगदान दे सकते हैं।

ज्योतिष विद्या के बिना भी, एक अभिभावक जो अपने बालक का पालन-पोषण कर रहा है, वह बच्चे की प्रकृति की जटिलताओं और बारीकियों को अपने स्तर पर समझने का प्रयास करता है।

ज्योतिष का उद्देश्य सहज ज्ञान को कम करना या बदलना नहीं है, बल्कि यह एक समृद्ध प्रतीकात्मक रुप में मार्गदर्शन करना है। भाषा के रूप में मौजूद है, जो मानस के ह्रद्य में छिपे और मस्तिष्क की सूक्ष्म परतों में छुपे रहस्यों तक पहुँचने में हमारी सहायता करने का कार्य करता है।

अंतर्निहित क्षमताओं को जानकर विकास करना

हम सभी गहन चुनौतीपूर्ण समय में जी रहे हैं। हमारे बच्चों को हमारी जरूरत है और हमें अपने बच्चों की जरूरत है। एक मानव जाति के रूप में, हमारी चेतना तर्कसंगतता पर जोर देकर हमारे अंदर अंतर्निहित मानसिक क्षमताओं की पुनर्प्राप्ति पर जोर दे रही है।

हम जादुई विचारशीलता, सहज ज्ञान युक्त विचार और बहुआयामी अस्तित्व में लौट रहे हैं। हम सहज प्रक्रिया को पुनः प्राप्त कर रहे हैं। बच्चों का मार्गदर्शन करना और उनकी सहायता करना हमारा परम दायित्व है।

हम अपने दायित्व निर्वाह के साथ उनके जीवन से अशुभता को दूर करने का प्रयास करते है। वास्तव में भविष्य के लिए वो हमारी आशा है। जितना अधिक हम उन्हें अपनी उपस्थिति के साथ प्रोत्साहित करेंगे, वे उतनी योग्यता के साथ सुसज्जित होंगे और एक उत्पादक जीवन जी पायेंगे। जितना अधिक हम उनसे प्यार करते हैं, उतना ही अधिक वे अपने आप को प्यार करने लगेंगे।

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव कुंडली विशेषज्ञ और प्रश्न शास्त्री
8178677715 , 9811598848

ज्योतिष आचार्या रेखा कल्पदेव पिछले 15 वर्षों से सटीक ज्योतिषीय फलादेश और घटना काल निर्धारण करने में महारत रखती है. कई प्रसिद्ध वेबसाईटस के लिए रेखा ज्योतिष परामर्श कार्य कर चुकी हैं।

आचार्या रेखा एक बेहतरीन लेखिका भी हैं। इनके लिखे लेख कई बड़ी वेबसाईट, ई पत्रिकाओं और विश्व की सबसे चर्चित ज्योतिषीय पत्रिकाओं में शोधारित लेख एवं भविष्यकथन के कॉलम नियमित रुप से प्रकाशित होते रहते हैं।

जीवन की स्थिति, आय, करियर, नौकरी, प्रेम जीवन, वैवाहिक जीवन, व्यापार, विदेशी यात्रा, ऋण और शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य, धन, बच्चे, शिक्षा, विवाह, कानूनी विवाद, धार्मिक मान्यताओं और सर्जरी सहित जीवन के विभिन्न पहलुओं को फलादेश के माध्यम से हल करने में विशेषज्ञता रखती हैं।

Back to top button