छत्तीसगढ़

आरंग नगर के सृजन सोनकर विद्यालय में हुआ “एक नई दिशा मानवता व जागरूकता की ओर” कार्यक्रम पर चर्चा

दीपक वर्मा:

सृजन सुनकर के छात्राओं को सिखाया गया आत्मरक्षा के गुर..
आरंग: आरंग नगर के सृजन सोनकर विद्या मंदिर उच्चतर माध्यमिक विद्यालय आरंग में महिला जागरूकता के तहत एक नई दिशा मानवता व जागरूकता की ओर फाउंडेशन की ओर से जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया जिसमें डॉ रश्मि शर्मा गोल्ड मेडलिस्ट छत्तीसगढ़ सोनकर समाज शिक्षा विकास समिति के सदस्य, केसर सुनकर पत्रकार व नारी सशक्तिकरण के तहत विभिन्न क्षेत्रों में सम्मानित, कंचन सोनकर सामाजिक कार्यकर्ता व छत्तीसगढ़ महतारी अवार्ड से सम्मानित तथा शारदा प्रसाद सोनकर अध्यक्ष छत्तीसगढ़ सोनकर समाज के तत्वाधान में महिलाओं पर हो रहे विभिन्न घटनाओं के प्रति बालिकाओं को जागृत करने हेतु कार्यक्रम किया गया।

राष्ट्रपति के द्वारा वर्तमान में अभी नया नियम लागू

जिसमें डॉ रश्मि सोनकर ने प्रतिदिन घट रही बालिकाओं के प्रति अनैतिक अपराध से किस प्रकार निपटे इस विषय पर विचार प्रस्तुत किए। उन्होंने कहा कि हमारे राष्ट्रपति के द्वारा वर्तमान में अभी नया नियम लागू किया गया है जिसके तहत रेप के अपराधी यदि फांसी की सजा रुकवाने के लिए कोई आवेदन न्यायालय में लगाता है तो उसे स्वीकृत नहीं किया जाएगा यह एक बड़ी पहल है जिससे अपराध कम हो सकते हैं।

अपनी आत्मरक्षा से संबंधित विषयों पर अपनी जानकारी

साथ ही कंचन सोनकर ने विभिन्न प्रकार से अपनी आत्मरक्षा से संबंधित विषयों पर अपनी जानकारी दी। साथ ही साथ शारदा प्रसाद सोनकर अध्यक्ष सोनकर समाज छत्तीसगढ़ ने अपने व्याख्यान में कहा कि कोई भी लड़की कभी भी अपने आप को अकेला न समझे किसी विशेष जगह पर जाने से पहले पालकों को जरूर सूचित करें ताकि उनकी जानकारी उन्हें रहे छोटी-छोटी बातों से घबराने की जरूरत नहीं है।

उद्बोधन की इस कड़ी में शाला विकास एवं प्रबंध समिति के अध्यक्ष चक्रधारी सोनकर ने आत्मरक्षा करने के क्षेत्र में बच्चों को कभी भी अपने आपको कम आंकने व हर परिस्थिति से निपटने हेतु तत्पर रहने के लिए प्रेरित किया।

इस कड़ी में संस्था की प्राचार्या यशोदा योगी ने आभार व्यक्त करते हुए अतिथियों को संबोधित करते हुए कहा कि यह एक नई पहल है जिससे बालिकाओं को जागरूक करने और आत्मरक्षा हेतु तैयार करने के लिए बल प्राप्त होगा।

इस अवसर पर विद्यालय प्रबंध समिति के संरक्षक लखन लाल सोनकर, अध्यक्ष छत्रधारी सोनकर, उपाध्यक्ष गजेंद्र कुमार सोनकर कोषाध्यक्ष देवेंद्र सोनकर, सचिव सृजन सोनकर, सह सचिव सियाराम सोनकर, सोनकर समाज आरंग राज उपाध्यक्ष पंचकौड सोनकर, कोषाध्यक्ष मदन मोहन सोनकर, धर्मराज सोनकर सह सचिव विकास सोनकर, सलाहकार योगेंद्र सोनकर, प्रधान पाटिका भारती वर्मा, प्रशांत अग्रवाल सांस्कृतिक प्रभारी चेतन चौहान, मीडिया प्रभारी लक्ष्मी नारायण पटेल, संजीव देवदास सहित समस्त शिक्षक गण उपस्थित रहे।

इस कार्यक्रम का समापन वीर रस की कविता “तू चाहे तो चंडी बन जा” से किया गया।

Tags
Back to top button