बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और पॉक्‍सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश के बीच विवाद

कोर्ट में शोर-शराबा से अफरा-तफरी, छावनी में तब्दील हुआ परिसर

उन्नाव:उत्तर प्रदेश के उन्नाव में बार एसोसिएशन के अध्यक्ष और पॉक्‍सो कोर्ट के विशेष न्यायाधीश के बीच किसी बात को लेकर विवाद हो गया. इसके बाद बार के अन्य सदस्य भी कोर्ट पहुंच गए. कोर्ट में शोर-शराबा से अफरा-तफरी मच गई. कुछ ही देर में कोर्ट परिसर छावनी में तब्दील हो गया.

जज के व्यवहार से खफा वकीलों ने हड़ताल कर दी, जिससे दोनों पक्षों में विवाद और बढ़ गया. देर शाम जिला जज ने मामले की मध्यस्थता कर दोनों पक्षों में सुलह समझौता कराया. इसके बाद बार एसोसिएशन ने हड़ताल वापस ले ली. सोशल मीडिया में इस पूरे विवाद का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

वीडियो में कोर्ट चेम्बर में घुसकर हंगामे और गाली-गलौज को देखा जा सकता है. वहीं, इसे लेकर एक शिकायती पत्र भी सामने आया है, जिसमें एडीजे प्रहलाद टंडन ने मारपीट और गाली-गलौज का आरोप लगाया है.

कोर्ट में वीडियो बनाने को लेकर विवाद जिला एवं सत्र न्यायालय कोर्ट परिसर की एडीजे 11 पॉक्‍सो कोर्ट में दोपहर करीब 12 बजे बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राम शंकर यादव वकीलों के साथ मुकदमे की पैरवी करने पहुंचे थे.

बताया जा रहा है कि इस दौरान कोर्ट के अंदर वीडियो बनाने को लेकर बार एसोसिएशन अध्यक्ष और जज के बीच विवाद हो गया. कोर्ट में शोर-शराबा और हंगामा से वकीलों की भीड़ मौके पर इकट्ठा हो गई और वहां अफरा-तफरी मच गई. इसके बाद जज व अन्य कर्मी कोर्ट से निकल गए. घटना के बाद वकील हड़ताल पर चले गए.

जिला जज ने कराया समझौता

बवाल की सूचना पर सीओ सिटी गौरव त्रिपाठी भारी पुलिस बल के साथ कोर्ट परिसर पहुंचे और कोर्ट को छावनी में तब्दील कर दिया गया. वकीलों ने बार भवन में बैठक कर आगे की रणनीति बनाई.

शाम करीब 5 बजे जिला जज ने बार एसोसिएशन अध्यक्ष के प्रतिनिधनंडल ऑर पॉक्‍सो कोर्ट के एडीजे को कार्यालय में बुलाया. जिला जज की मौजूदगी में करीब एक घंटे तक बंद कमरे में बैठक चली. जिसके बाद वकीलों व जज के बीच समझौता हो गया और बार एसोसिएशन ने हड़ताल वापस ले ली.

वकीलों और पुलिस ने मारपीट से किया इंकार

बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राम शंकर यादव ने बताया कि हमारे अधिवक्ताओं ने शिकायत की थी कि कोर्ट नंबर 11 में अभद्रता हुई है, जिसको लेकर हमसे हॉट-टॉक हुई थी. जिला जज ने मध्यस्थता की है, विवाद समाप्त हो गया है. हड़ताल भी वापस ले ली गई है.

मारपीट नहीं हुई है, मेरे हिसाब से यह कहना ग़लत है. वहीं, मामले में सीओ सिटी गौरव त्रिपाठी ने कहा कि मारपीट जैसा कुछ भी नहीं था. पता चला कि वकील इकट्ठा हुए हैं और जज की कोर्ट में जा रहे हैं, जिस पर पहुंचा था. आपस में बात हो गई है, हालात सामान्य है.

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button