#humsunrahehai – प्लाट बिक्री के बाद रास्ता बंद करने से राधास्वामी नगर में विवाद

निर्माण कार्य रुका, लोग हो रहे परेशान

रायपुर। राजधानी के भाठागांव क्षेत्र के राधास्वामी नगर में जमीन बेचे जाने के बाद प्लाट तक पहुंचने का रास्ता बंद करने के मामले की शिकायत पुरानी बस्ती थाने में की गई है। प्लाटिंग एरिया में निर्माण कार्य जारी है। जमीन मालिक द्वारा रास्ता बंद किए जाने से सर्वाधिक परेशानी उन्हें हो रही है जो प्लाट खरीदी के बाद अपना निर्माण कार्य करा रहे हैं।

बता दें कि क्लिपर28 ने जन सरोकार कार्यक्रम ‘क्या आप परेशान है’ के तहत सरकारी दफ्तर या दीगर कामों में लोगों को होने वाली परेशानी का हल निकालने के लिए समस्याओं को संबंधित अधिकारी तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया है। इसी कड़ी ये मामला सामने आया है।

क्लिपर28 की टीम जब मौके पर पहुंची तो वहां जैसा शिकायत पत्र में बताया गया था वैसे ही हालात मिले। प्लाट तक पहुंचने के रास्ते ब्लाक मिले, दीवारों को ऊंचाकर कब्जा करने की कोशिशें साफ दिखीं, निर्माण कार्य भी बंद मिला।

राधास्वामी नगर में निर्माण स्थल पर मौजूद शिकायतकर्ता अनिल अग्रवाल ने अपनी खरीदी गई जमीन का दस्तावेज दिखाते हुए क्लिपर28 को बताया कि उनका जवाहर नगर निवासी उर्मिला अग्रवाल पति किशन कुमार अग्रवाल से भाठागांव पटवारी हल्का नंबर 105/60 में अलग-अलग खसरा नंबर में उर्मिला अग्रवाल के राजस्व अभिलेख में दर्ज कुल रकबा 1.214 हेक्टर जमीन का चुकता सौदा 7 करोड़ 58 लाख में हुआ था। सौदे के वक्त दोनों पक्षों में 30 सितंबर 2017 तक 18 हजार वर्ग फीट की रजिस्ट्री व 1 जनवरी 2018 तक शेष बची भूमि की रजिस्ट्री करने का करार हुआ था। अनिल अग्रवाल ने बताया कि सौदा दिनांक से ही उर्मिला अग्रवाल ने उन्हें सम्पूर्ण जमीन का कब्जा देकर सीमांकन का अधिकार दे दिया था। सीमांकन के दौरान मौके पर 56 हजार वर्ग फीट जमीन होना पाया गया व अन्य जमीन में रोड (रास्ता) होने की जानकारी उर्मिला अग्रवाल को दी गई थी।

अनिल अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने करार के मुताबिक उर्मिला अग्रवाल के हिस्से की कुछ जमीनों का सौदा अनिल अग्रवाल, गौरव अग्रवाल व अन्य, तथा शैलेश सोनी के नाम पर करा दी। जिसकी संपूर्ण रकम का चुकारा कर रजिस्ट्री भी की जा चुकी है तथा राजस्व अभिलेख में उन लोगों का स्वामित्व व कब्जा भी दर्ज हो चुका है, जिन्होंने जमीन खरीदी है। रजिस्ट्री अभिलेख के चौहदी में रास्ता होने का स्पष्ट उल्लेख है। रजिस्ट्री होने के बाद उक्त भूमिस्वामी अपने हिस्से की जमीन के टुकड़े अलग-अलग लोगों को बेच चुके हैं। बिक्रीशुदा जमीन की रजिस्ट्री कर कब्जा भी सौंपा चुका है। वहां बांउडरी वॉल भी बनाए जा चुके हैँ।

अनिल अग्रवाल ने बताया कि गत 23 जून को जब वे निर्माण स्थल में पहुंचे तो उन्हें जानकारी हुई कि उर्मिला अग्रवाल वहां रास्ते की जमीन को बंद कर रही है। साथ ही किसी भी प्रकार की जमीन नहीं बेचे जाने की बात कर रही है। ऐसे में जब रास्ता बंद करने की वजह पूछी गई तो उर्मिला अग्रवाल विवाद पर उतर आई। जिसकी शिकायत उन्होंने पुरानी बस्ती थाने में दर्ज कराई है।

अनिल अग्रवाल का पक्ष जानने के बाद क्लिपर28 ने जब पुरानी बस्ती के टीआई से मामले की जानकारी मांगी तो उन्होंने बताया कि थाने में अनिल अग्रवाल ने शिकायत दर्ज कराई है। मामले को संज्ञान में लिया गया है। चूंकि मामला राजस्व से संबंधित है इसलिए पटवारी, नगर निगम से जानकारी ली जाएगी। मामले की जांच जारी है।

फिलहाल इस पूरे मामले में परेशानी उन्हें हो रही हैं जो वहां जमीन खरीद कर निर्माण करा रहे हैं। अगर विवाद जल्द नहीं सुलझा तो उन्हें बड़ी हानि उठानी पड़ेगी। अनिल अग्रवाल ने बताया कि उन्होंने पूरे मामले की जानकारी थानेदार, पुलिस अधीक्षक, कलेक्टर, तहसीलदार, पटवारी व नगर निगम को सौंप दी है। अभी तक कोई अमला मौके पर नहीं पहुंचा है।

अनिल अग्रवाल ने कहा कि उन्होंने जमीन खरीदी की पूरी प्रक्रिया का पालन किया है। ब्रिकीकर्ता द्वारा जबरन रास्ता रोका गया तो वो अपने हक की लड़ाई के लिए न्यायालय जाएंगे। फिलहाल क्लिपर28 अपनी पहल ‘क्या आप परेशान है’ के तहत जमीन की बिक्री करने वाली उर्मिला अग्रवाल का पक्ष भी सामने लाएगी। ताकि लोगों की परेशानी का हल निकाला जा सके। वहीं राधास्वामी नगर के लोगों ने क्लिपर28 की इस पहल का स्वागत किया है।

Back to top button