जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन एवं निपटान’ के संबंध में जिला स्तरीय मानीटरिंग समिति की बैठक संपन्न

महासमुंद: कलेक्टर सुनील कुमार जैन की अध्यक्षता में आज यहां कलेक्टोरेट सभाकक्ष में ’जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन एवं निपटान’ के लिए जिला स्तरीय मानीटरिंग समिति की बैठक आयोजित की गई।

बैठक में कलेक्टर जैन ने इस संबंध में विकासखंड चिकित्सा अधिकारियों सहित नगरीय निकायों के नगर पालिका अधिकारियों से विस्तार से जानकारी ली और आवश्यक दिशा-निर्देश दिए। कलेक्टोरेट के सभाकक्ष में अयोजित इस बैठक में जिला स्तरीय मानीटरिंग समिति का प्रावधान अनुसार गठन किया गया।

समिति गठन के पश्चात कलेक्टर जैन ने जिले के समस्त शासकीय एवं गैर शासकीय अस्पतालों में ’जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन एवं निपटान’ 2016 के तहत प्रावधानों का अनिवार्य रूप से पालन कर आवश्यक व्यवस्था बनाये रखने के निर्देश दिये गये।

बैठक मे ’जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन एवं निपटान’ हेतु पर्यावरण संरक्षण मंडल को विधिवत आवेदन किये जाने के निर्देश दिए। बैठक में पर्यावरण संरक्षण मंडल रायपुर द्वारा आवेदन के बाद प्रमाण पत्र जारी नहीं किये जाने पर उन्हें तत्काल समन्वय कर प्रमाण पत्र जारी करने के निर्देश दिए।

साथ ही सभी निजी अस्पतालों को भी 10 मई तक मानीटरिंग टीम द्वारा निरीक्षण करने के निर्देश दिए गए। जो अस्पताल जैव अपशिष्ट का निपटान नही कर रहे हैं उन्हें नोटिस देने के निर्देश दिए तथा कड़ाई से पालन कराने निर्देशों को कड़ाई से पालन करने के लिए कहा गया है।

इस अवसर पर अनुविभागीय अधिकारी (राजस्व) विनय कुमार लंगेह, अपर कलेक्टर आलोक पाण्डेय, संयुक्त कलेक्टर शिवकुमार तिवारी, सभी अनुविभागीय अधिकारीगण, जिला स्तरीय मानीटरिंग समिति के सदस्य मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एस.बी. मंगरूलकर,

पशु चिकित्सा सेवाएं के उप संचालक डी.डी. झारिया, नगरीय निकायों के मुख्य नगर पालिका अधिकारीगण, प्रभारी सर्जन सह मुख्य अस्पताल अधिक्षक, जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार, जिले के समस्त बीएमओ व बीपीएम सहित पर्यावरण रायपुर मंडल से खेमचंद साहू एवं एसएमएस वाटरग्रेस कंपनी के प्रतिनिधि उपस्थित थे।

Back to top button