जिला मलेरिया अधिकारी ने विश्व मलेरिया दिवस पर दिया संदेश

बच्चों ने निकाली परभातफेरी

नवादा। विश्व मलेरिया दिवस पर जिला मलेरिया अधिकारी ने डॉ उमेश चंद्रा ने सदर अस्पताल से बच्चों की परभात रैली को झण्डा दिखाकर उदघाटन किया ,इस अवसर पर जिले के सारे प्रखण्ड अस्पताल मे परभात रैली एवं मलेरिया के प्रती जागरूकता अभियान को अधिक बढ़वा देने के लिए बच्चों के द्वारा प्रतियोगता का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर डॉ चन्द्र ने लोगो को संदेश देते हुए बताया की कि वह अपने घरों व आस-पास पानी को इकट्ठा न होने दें और साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि सभी मच्छर रुके हुये पानी में अंडे देते है। इसलिए रुके हुये पानी के स्थान को भर दें या कुछ बूंद मिट्टी के तेल की डाल दें जिससे मच्छरों के लार्वा नालियों और ठहरे पानी में पनपने ही न पाएँ।

उन्होने कहा की नवादा जिले मे मार्च 19 मे नो सौ एकसठ लोगो के उपर मलेरिया का परीछन किया गया ,जिसमे टीबी के दस लोग और टिएफ के 3 लोग पाये गए ,जिंनका सदर अस्पताल के दावरा निसुल्क इलाज कराया गया और वो पूरी तरह से ठीक है हर महीने मे पूरे जिले मे इसका परिछ्न किया जाता है और जो लोग इसके मरीज होते है उन्हे सदर के दावरा निःशुल्क इलाज एवं दवाई उपलब्ध कराई जाती है ,क्योकि हमारा मिशन है की वर्ष 2030 तक जिले से मलेरिया को पूरी तरह मलेरिया मुक्त जिला बनाया जाय।

क्या है लक्षण-सिर में तेज दर्द होना, उल्टी होना या जी मचलना, ठंड के साथ ज़ोर कंपकंपी होना और कुछ देर बाद सामान्य हो जाना, कमजोरी और थकान महसूस होना, शरीर में खून की कमी होना, मांसपेशियों में दर्द होना एवं बुखार उतरते समय पसीना आना आदि लक्षण होते है।

क्या है मलेरिया- मलेरिया एक जानलेवा बीमारी है, जो एनाफिलीस मादा मच्छर के काटने से फैलती है। इससे निकालने वाला प्रोटोजुअन प्लाज्मोडियम शरीर के ब्लड के साथ मिलने लगता है जिससे धीरे-धीरे खून की कमी होने लगती है। मलेरिया के कीटाणु दो तरह होते है एक तो प्लाज्मोडियम फ़ेल्सीपेरम (पीएफ़) जो कभी-कभी जानलेवा हो सकता है, वहीं दूसरा प्लाज्मोडियम वाईवेक्स (पीवी) यह सामान्य मलेरिया होता है।

इन दोनों बीमारी से पीड़ित व्यक्ति को सही समय पर उचित इलाज तथा चिकित्सकीय सहायता द्वारा ठीक किया जा सकता है। सरकारी अस्पतालों, प्राथमिक और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में मलेरिया का निःशुल्क उपचार किया जाता है।

इस अवसर पर जिला प्रतीरछण पदाधिकारी डॉ अशोक कुमार ,च्कित्सा पदाधिकारी डॉ विमल कुमार ,टीबी नोडल पधाकिरी डॉ एस॰के॰पी चक्रवर्ती,जिला लिपिक सुनील कुमार के साथ जिले के सभी स्वास्थ्य कर्मी उपास्थित थे ।

Back to top button