जनपद सदस्यों व सभापतियों ने लगाया सीईओ के ऊपर मनमानी का आरोप

हितेश मिश्रा:

छुरा: गरियाबंद जिला अंतर्गत की जनपद पंचायत छुरा के सीईओ के ऊपर सभापति ने आरोप लगाया कि सामान्य सभा व सामान्य प्रशासन की बैठक में हुए निर्णय का पालन नहीं हो रहा है। जनपद पंचायत में अगस्त 2018 में पदस्थ सीईओ एन के मांझी द्वारा जनपद पंचायत के सामान्य सभा एवं सामान्य प्रशासन समिति की बैठक में हुए निर्णय का क्रियान्वयन नहीं किया गया है।

सभापति द्वारा बार-बार निवेदन करने पर भी कार्यवाही नहीं की जाती है जो पंचायती राज अधिनियम के विपरीत है। 18 फरवरी को सामान्य प्रशासन समिति में पारित प्रस्ताव को बार बार अनुरोध के बाद भी क्रियान्वयन नहीं किया गया है।

इस संबंध में प्राप्त जानकारी के आधार पर सामान्य प्रशासन समिति के सदस्य, जनपद उपाध्यक्ष एवं मुख्य कार्यपालन अधिकारी को जावक रजिस्टर अवलोकन करना चाहा जिसे पुष्टि हो सके, लेकिन पंचायती राज अधिनियम विपरीत मुख्य कार्यपालन अधिकारी ने अवलोकन कराने से मना कर दिया।

जावक रजिस्टर में छेड़छाड़

प्रतीत होता है कि जावक रजिस्टर में छेड़छाड़ की गई है। 10 जनवरी को सामान्य सभा समिति द्वारा जनपद पंचायत के विकास निधि से स्वीकृत कार्यों का प्रस्ताव पारित किया गया था। 2 माह बीत जाने के बाद भी आज तक प्रशासकीय स्वीकृति जारी नहीं की गई है, जिससे सी ई ओ के कार्यशैली पर प्रश्नचिन्ह खड़ा होता है।

जनपद पंचायत के उपाध्यक्ष, सभापति, सदस्यों के द्वारा विगत 6 माह से पंचायतों के द्वारा किए गए निर्माण कार्य के भुगतान के संबंध में लगातार मुख्य कार्यपालन अधिकारी को अवगत कराया जा रहा था लेकिन भुगतान के संबंध में ध्यान नहीं दिया गया जिसके कारण जनपद पंचायत के 74 ग्राम पंचायत के सरपंचों को आर्थिक संकट से जूझना पड़ रहा था।

सभी बातों को नजरअंदाज करते हुए ग्राम पंचायत के निर्माण कार्यों का भुगतान एवं मूल्यांकन नहीं किया गया है। सरपंचों को धरना प्रदर्शन करना पड़ा था। सभी सदस्यों ने द्वारा इस प्रकार कार्य विरोध में जनपद सदस्य संघ द्वारा प्रदेश स्तरीय आंदोलन राजधानी एवं जनपद पंचायत छुरा में किया जाएगा।

इस अवसर पर मुख्य रूप से अवध राम साहू उपाध्यक्ष जनपद पंचायत छुरा, सभापति डेमन प्रसाद सिंहा, सभापति टीकम साहू, सभापति प्रेम साहू, सभापति पुष्पा धुव और नारायण ठाकुर उपस्थित थे ।

Back to top button