पंचायतों मे रौब दिखाकर निर्माण कार्यो मे गडबडी

राजनांदगांव: छुरिया विकासखण्ड के अंतर्गत पंचायतों मे सत्ता सरकार का रौब दिखा कर निर्माण कार्यो मे गड़बड़ी कर कमाई करने का मामला सामने आया है।खबर है कि वनांचल क्षेत्र की पंचायतों जैतगुडऱा,मरकाकसा,जोब,दामाबंजारी मे आहता निर्माण,पंचायत भवन,सामुदायिक भवन,आदि के अलावा रानीपुर खडख़ड़ी जैतगुडऱा पुल निर्माण कार्य मे जमकर घपला कर सरकारी राशि को गबन किया जा रहा है। 

कलेक्टर भीम सिंह ने कहा कि उस क्षेत्र के किसी भी प्रतिनिधि ने मुझे इस प्रकार की शिकायत नही की है। अगर किसी ने लिखित शिकायत करता है तो उस पर उचित कार्रवाई होगी। 

क्या है पूरा मामला 

पंचायतों में की जा रही घपलाबाजी के चलते राज्य सरकार के दामन मे दाग तो लग रहा है लेकिन इसका खामियाजा आने वाने चुनाव मे भुगतना पड़ सकता है। बताया जाता है कि पंचायत प्रतिनिधियों को सत्ता का धौंस दिखाते है। ठेकेदारी से काम करने वाले नेता निर्माण कार्यो मे सरकारी नियम कायदों को ताक पर रखकर निर्माण कार्यो का सिलसिला चलाकर कमाई करने मे लगे हुए है। यही नही पंचायत के अधिकारियों की शह मे चल रहे कमाई के खेल मे पंचायत प्रतिनिधियों पर काम देने दबाव बनाए जाने की खबर है। 

ज्ञात हो कि गत वर्ष मनरेगा के कार्यो मे घपला करने दो सीईओ और पंचायत सचिव सरपंचो के ऊपर एफ,आई,आर दर्ज हुआ था। बावजूद इसके अब भी मनरेगा और अन्य योजनाओं के कार्यो मे ठेकेदारी हावी है। अधिकारियों की मंजूरी पर जमकर सरकारी धन का गबन हो रहा है।

जंगल क्षेत्र के पंचायतों के निर्माण कार्यो मे प्राक्कलन को ताक पर रखकर कार्य करने से निर्माण कार्यो के गुणवत्ता पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है। बताया जाता है कि मुख्यमंत्री समग्र विकास योजना की राशि मे भारी गड़बड़ी कर सरकार की योजना पर पानी फेरा जा रहा है। इधर ग्राम पंचायतों मे रेडियो सप्लाई को लेकर अधिकारियो पर संदेह की उंगलिया उठ रही है। दिल्ली मेड रेडियों को अधिकारियों की मंजूरी पर अनाप -शनाप दर पर ग्राम पंचायतों को सप्लाय किया गया है। भारी कमीशनखोरी के इस मामला मे नियम कायदो को ताक मे रखकर बिना आदेश के पंचायतों को रेडियो सप्लाई किया गया है। 

सूत्र बताते है कि एक अधिकारी के मौखिक आदेश से ये कारनामा किया गया है। बहरहाल छुरिया जनपद मे निर्माण कार्यो मे जमकर कमीशनखोरी के खेल चल रहा है। इससे सरकारी योजना के क्रियान्वयन पर प्रश्न चिन्ह उठ गया है। आरोप है कि सरकारी कार्यक्रमों के लिए खर्च किए जाने वाले राशि में भारी गड़बड़ी कर कमाई की गई है। यही नही ओडीएफ घोषित छुरिया ब्लाक के खुले मे शौच मुक्त अभियाान दम तोडती नजर आ रही है। ग्रामीण क्षेत्रों मे शौचालय बनाने के नाम सरकार की योजना को महज कमाई कर जनता के साथ बेमानी की गई ।

1
Back to top button