जिला निर्माण समिति के कार्यों में गड़बड़ी, कांग्रेस और भाजपा ने साधी चुप्पी

दुर्गा नाथ देवांगन :

कोण्डागांव।

चुनाव के नजदीक आते ही सरकार जनता को विकास कार्यों का तोहफा दे रही है। सरकार की इस पहल का छत्तीसगढ़ के नक्सल प्रभावित कोंडागांव जिला में जिला निर्माण समिति के अधिकारी किस तरह गलत फायदा उठा कर अपना विकास कर रहे है

इसका नजारा नवोदय स्कूल में बनाये जा रहे अतिरिक्त कक्ष को देख कर लगाया जा सकता है, की जिसका टेंडर खुला नहीं है और बिल्डिंग आधे से ज्यादा बन कर तैयार हो चुकी है।

विकास की आड़ में जिला निर्माण समिति के द्वारा की जा रही गड़बड़ी सामने आई है।मामला जिला मुख्यालय में नवोदय स्कूल के लिए बनाए जाने वाले अतिरिक्त कक्ष का है, जिसका टेंडर 4 अक्तूबर को खोला गया है। पर टेंडर खुलने से पहले ही बिल्डिंग का 70 प्रतिशत काम हो चूका है ।

यानि समझा जा सकता है कि कोण्डागांव जिला में पहले काम पूरा, उसके बाद टेंडर होने की परंपरा चल पड़ी है। बस इतना ही नहीं गड़बड़ी को सफलतापूर्वक अंजाम देने के लिए निर्माण स्थल पर कोई सूचना बोर्ड भी नही लगाया गया है।

मामला सामने आने के बाद जहां अधिकारी चुप्पी साधे बैठे है। वहीं विश्व हिन्दू परिषद् के प्रांतीय संयोजक आशुतोष पांडे ने जिला निर्माण समिति पर फर्जीवाड़े का कीर्तिमान बनाने और घोटाला करने का आरोप लगाया है।

चुनाव में मतदाताओ को लुभाने के लिए भाजपा एवं कांग्रेस विकास के अपने अपने दावे कर रहे हैं, पर जिला निर्माण समिति की गड़बड़ी सामने आने के बाद भी दोनों पार्टी चुप्पी साध बैठे हैं। इधर सीपीआई ने भाजपा और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए मिलीभगत का आरोप लगाया है।

देश के प्रधानमंत्री का नारा है न खाऊंगा न खाने दूंगा, लेकिन अब यह नारा जिले में खाओ और खाने दो का नारा बन गया है। जिस तरह से जिला निर्माण समिति की गड़बड़ी एक के बाद एक सामने आ रही है, अब देखना है की प्रदेश की सरकार अधिकारियों पर कार्रवाई कर प्रधानमंत्री की बात रखती है या फिर चुप्पी साध भ्रष्टाचार को बढ़ावा देती है।

Back to top button