राष्ट्रीय

दिवगंत अरुण जेटली के परिवार ने पेंशन को लेने से किया मना

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी भेजी गई है पत्र की एक प्रति

नई दिल्ली: दिवगंत अरुण जेटली के परिवार ने राज्यसभा सभापति को पत्र लिखकर पेंशन राज्यसभा के उन कर्मचारियों को दान करने को कहा है जिनकी सैलरी कम है.

जेटली के परिवार ने पेंशन लेने से मना कर दिया था. परिवार के फैसले के बाद अब उनकी पेंशन राज्यसभा के कम सैलरी वाले कर्मचारियों की दी जा सकती है. पेंशन के रूप में परिवार को सालान करीब 3 लाख रुपये मिलते.

परिवार को पेंशन के तौर पर लगभग तीन लाख रुपये मिलते। संगीता जेटली ने वेंकैया नायडू को पत्र लिखकर कहा, ‘जिस महान कार्य को अरुण किया करते थे उनके उसी मार्ग पर चलते हुए मैं संसद से अनुरोध करती हूं कि एक दिवंगत सांसद के परिवार को मिलने वाली पेंशन को उस संस्थान के जरुरतमंद लोगों को दान कर दिया जाए जिसकी जेटली ने दो दशकों तक सेवा की है।

पत्र की एक प्रति प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी भेजी गई है। भाजपा के दिग्गज नेताओं में शुमार अरुण जेटली ने 66 साल की उम्र में दिल्ली के एम्स अस्पताल में 24 अगस्त को अंतिम सांस ली थी। वह यहां कई दिनों तक आईसीयू में भर्ती थे।

Tags
Back to top button