डीएमई के बिगड़े बोल, कहा-मौत तो कहीं भी आ सकती है

बिलासपुर।

सिम्स में नवजात वार्ड के ठीक नीचे शॉर्ट सर्किट से लगी आग और हादसे में हुई दो नवजातों की मौत के बाद पूरे प्रदेश में राजनैतिक सरगर्मी तेज हो गई है। घटना के 30 घंटे बाद भी शासन-प्रशासन लापरवाह अधिकारियों-कर्मचारियों की जिम्मेदारी तय नहीं कर पाए हैं।

उधर घटना के दूसरे दिन निरीक्षण के लिए डीएमई चंद्राकर ने बेतुका बयान दिया है। उन्होंने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि मौत तो कहीं भी आ सकती है, हादसा है जो कहीं भी हो सकता है। सिम्स में लाइनों का मेंटेनेंस लंबे समय से नहीं हुआ था, मेंटेनेंस न होने की बजह से शॉर्ट सर्किट हुआ होगा और इसी से इतनी बड़ी घटना हो गई। इसकी जांच की जा रही है।

डीएमई के इस गैर जिम्मेदराना बयान पर मंत्री टीएस सिंहदेव ने डीएमई को नसीहत दी है कि अफसर संवेदनशीलता न भूलें और जिम्मेदारी के साथ बात रखें। दूसरे दिन भी सिम्स में अधिकारियों.कर्मचारियों के अलाभा स्वास्थ्य अधिकारियों व प्रदेश के नेता मिनिस्टरों की भीड़ लगी रही।

क्या बोले जनप्रतिनिधीः

मंत्रीे TS सिंहदेव ने कहा बार बार बात आती है सिम्स की बिल्डिंग जर्जर हो गयी है पुरानी है लायक नही तो सिम्स को बंद कर नई बिल्डिंग बनाकर चालू कर रिपेयर कराना है तो वी कराए प्रपोजल भेजे जो भी स्थिति हो क्लियर हो। भाजपाई भी सिम्स पहुंचे और घटना का विरोध किया।

सांसद लखन लाल ने भी कहा कि हादसा गंभीर है और दोषियों को बख्सा नहीं जाना चाहिए। लोरमी विधायक धर्मजीत सिंह ने कहा कि सिम्स में जानलेवा लापरवाही कोई नई बात नहीं हैं, यहा आए दिन मरीजों की जान के साथ खिलवाड़ किया जाता है, दोषियों पर कार्रवाई हो।

1
Back to top button