कोई कार्य में बाधा पहुंचाए तो बहस न करें, दर्ज कराएं रिपोर्ट: दुर्ग एसपी

भिलाई:  नवपदस्थ पुलिस अधीक्षक ने रविवार को ट्रैफिक पुलिस के अधिकारियों और कर्मचारियों की बैठक ली। बैठक में ईमानदारी से काम करने और ट्रैफिक व्यवस्था को व्यवस्थित रखने हर संभव कोशिश करने की बात कही। उन्होंने कहा कि कार्रवाई के दौरान कोई भी व्यक्ति पुलिस के कार्य में बाधा पहुंचाए तो उससे बहस न करें, बल्कि सीधे थाने में एफआईईआर दर्ज कराएं। सार्वजनिक रूप से पुलिस की ओर से की गई बहस ही आगे चलकर पुलिस की बदनामी का कारण बनती है।

किसी भी स्थिति में न पड़ें विवाद में : एसपी 

शंकरा विद्यालय सेक्टर-10 में हुई बैठक में एसपी डॉ. संजीव शुक्ला ने सभी कर्मचारियों से कहा कि ट्रैफिक पुलिस आम लोगों की पुलिस होती है। जिन्हें दिनभर लोगों के बीच ही रहना पड़ता है।

इसलिए सभी अपने कार्य, वर्दी की सफाई और व्यवहार को लेकर सजग रहें। कायदा तोडऩे वालों के खिलाफ कार्रवाई करें और किसी भी स्थिति में विवाद से बचें। एसपी डॉ. शुक्ला ने यह भी कहा कि चालानी कार्रवाई के दौरान आम तौर पर ऐसी स्थिति बनती है, जिसमें पुलिस वालों से आम लोग बहस करते हैं।

उस बहस का जवाब बहस से न देकर उक्त व्यक्ति के खिलाफ थाने में शिकायत दर्ज कराएं। ताकि कोई भी व्यक्ति पुलिस के कार्य में बाधा न पहुंचा सके। इसके अलावा उन्होंने कहा कि पुलिस अपने कार्य को भी पूरी ईमानदारी से करे। अच्छा काम करने पर एसपी ने कर्मचारियों को पुरस्कृत भी करने की बात कही। वहीं गलती होने पर सजा देने की भी चेतावनी दी। बैठक में एएसपी शशिमोहन सिंह, ट्रैफिक डीएसपी सतीश ठाकुर, ट्रैफिक टीआई सुरेन्द्र श्रीवास्तव, लता चौरे, एसएल भूआर्य और सी दिनकर सहित करीब 200 कर्मचारी और जवान उपस्थित थे।

1
Back to top button