सुख में इठलाओ नहीं और दुख में संताप न करो : सिद्धांतनिधिश्री

रायपुर : ऋषभदेव जैन मंदिर सदरबाजार में चातुर्मासिक प्रवचन श्रृंखला के तहत निपुणाश्रीजी . की विदुषी शिष्या प्रवचन प्रवीणा स्नेहयशाश्री की साध्वी सिद्धांतनिधिश्री ने श्रद्धालुओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि, `मैं आत्मा हूं जड़ शरीर नहीं,` यह बात हमारे दिल-दिमाग में अच्छी तरह बैठ जानी चाहिए। हकीकत में मैं आत्मा हूं तो कोई जड़ पदार्थ मेरा उद्धार करने वाले नहीं हैं। इस दुनिया में कोई भी जीव मरकर किसी भी योनि में अपने साथ किए हुए कर्मों की गठरी ले ही जाता है और उन्हीं कर्मों के अनुसार उसे अगला भव और अवस्था प्राप्त होती है। जीव अपने कर्मों का लेखा-जोखा लेकर जाएगा ही और उसे उसी अनुरूप परिणाम भी भोगने होंगे, यह हमें अच्छी तरह स्वीकार कर लेना चाहिए। इस संसार में कुछ भी और कोई क्षण स्थिर स्थायी नहीं है, सब कुछ बदल जाने वाला है। इसीलिए ज्ञानियों ने कहा कि, दुख के क्षणों में इठलाएं या फूले नहीं और दुख के क्षणों में संताप न करें, समता-समाधि में रहें।
उन्होंने कहा कि, यदि कोई जीव दुख के क्षणों में हंसते-हंसते दुख को सहन करता है तो उसे दुख कभी दुख लगेगा नहीं। प्रसन्नता के साथ भोगने की अवस्था में मनुष्य को यही लगता है कि यह सुख का क्षण कितनी जल्दी चला गया। और यदि दुख के क्षणों को भी प्रसन्न्ता, समता से सह लिया तो वह दुख भी दुख लगेगा नहीं। कर्मों का उदय है, इसीलिए भोगना ही होगा, जो ऐसा विचार कर दुख के क्षणों को शांत व सम भावों से भोगते हुए कर्मों का क्षय करता है, उसके जीवन से प्रतिकूलताएं पूरी तरह समाप्त हो जाती हैं। ज्ञानियों ने कहा कि, दुख के क्षणों को दुख रूप में नहीं साधना रूप में स्वीकार कर लो और सुख आने पर इठलाओ या फूलो नहीं।

नवपदजी पर व्याख्यान 25 से और ओली 27 से : चातुर्मास समिति के प्रचार प्रभारी मानस कोचर ने कहा कि, निपुणाश्री . की विदुषी शिष्या प्रवचन प्रवीणा स्नेहयशाश्री की अंतेवासिनी साध्वी रत्ननिधिश्री और साध्वी सिद्धांतनिधिश्री की निश्रा में नवपदजी की ओली की आराधना 27 सितम्बर से शुरू होगी। सूचना सत्र का संचालन करते हुए डॉ. धरमचंद रामपुरिया ने कहा कि, 27 सितम्बर से शुरू हो रही नवपदजी की आराधना के अंतर्गत महावीर भवन सदरबाजार में ओली कराई जाएगी, जिसके लाभार्थी हैं- संतोष कुमार दुग्गड़ परिवार रहेंगे। वहीं नवपदजी पर व्याख्यान की श्रृंखला सोमवार, 25 सितम्बर से शुरू हो जाएगी।

Back to top button