छत्तीसगढ़

दुश्मन न करें दोस्त ने वो काम किया है” उम्र भर का गम इनाम दिया है

कम उम्र में प्रेम प्रसंग और जल्दबाजी में विवाह सम्बंध किसी अंधे कुंवे से कम नही,मां-बाप की मर्जी और मर्यादा को लांघ कर जब सम्बंधो की बलि दी जाती है

ब्यूरो चीफ : विपुल मिश्रा

डेस्क(कोरबा) : कम उम्र में प्रेम प्रसंग और जल्दबाजी में विवाह सम्बंध किसी अंधे कुंवे से कम नही,मां-बाप की मर्जी और मर्यादा को लांघ कर जब सम्बंधो की बलि दी जाती है,तो उसका परिणाम अंततः दुःखद ही होता है वही इस बात को समय पूर्व समझ लेना किसी चमत्कार से कम नही होता…

ऐसा ही एक मामला कोरबा जिला के भिलाई खुर्द क्षेत्र की रहने वाली 18 वर्षीय लड़की ने 6 माह पूर्व शक्ति नवापारा गाँव के एक 19 वर्षीय लड़के से प्रेम कर, मां बाप के खिलाफ जाकर विवाह कर लिया था,वही शादी के बाद दोनों बाल्को क्षेत्र में आ गए,कुछ दिन सब ठीक चला,वही उसके पश्चात युवक शराब पीकर घर आने लगा और शराब के नशे में युवती से आये दिन लड़ाई झगड़े करने लगा…

यह भी पढ़ें :-रायपुर : दो साल में सखी वन स्टॉप सेंटर में हुआ 6 हजार 694 प्रकरणों का निराकरण

बीते दिन युवक देर शाम फिर शराब पीकर घर आया और युवती को उसके मायके से पैसा लेकर आने को कहने लगा,युवती ने मना किया तो उसे जबरजस्ती मिट्टी का तेल पिलाने लगा,युवती ने कई घूंट पी भी लिया, बाकी तेल उसके सिर पर भी उड़ेल दिया,युवती काफी डर गई,पति ने इतना ही नही उसे मारते-मारते बस स्टैंड तक ले आया औऱ भाग जा यहाँ से कहने लगा,दुबारा दिखेगी तो जान से मार दूंगा बोला,युवती रोते-रोते अपने घर भिलाई खुर्द पहुंची जहा उसके पिता ने दरवाजे से ही लौट जाने और हमारे लिए मर गयी कह दिया..

यह भी पढ़ें :-दिव्यांगों को मिलेंगे 2 करोड़ के सहायक उपकरण,सांसद साव की पहल पर भारत सरकार ने दी स्वीकृति

प्रेमी पति और पिता का व्यवहार युवती के लिए किसी सदमे से कम नही था,ऐसी हालात में कई लोग स्वयं को नुकसान तक पहुंचा देते है,पर युवती ने हार नहीं मानी और अपनी ही गलती का पछतावा करते हुए कोरबा से पैदल कुसमुण्डा क्षेत्र की ओर चल दी,कुसमुण्डा क्षेत्र का शक्ति नगर विकास नगर जहा युवती ने शिवमन्दिर प्रांगण में शरण ली,सुबह से मंदिर परिसर में बैठी युवती को कई लोगो मे आते जाते देखा, जिसके बाद कुछ लोगो मे मंदिर कमेटी के अध्यक्ष श्याम राठौर व क्षेत्र के गौ सेवको को इसकी सूचना दी,

गौ सेवक प्रकाश शर्मा,तामेश महंत , केशव व प्रशांतो मंदिर पहुंचे और युवती का हाल चाल जान,परिवार के बारे में पुछने पर युवती ने ऊपर बताये जानकरी के अनुसार सारी बातें बताई और कहा कि वह अब वापस अपने पति और पिता के घर नही जाना चाहती,अगर आप लोग मुझे मेरे घर भेजेंगे तो मैं स्वयं को कुछ कर लूंगी…

यह सुनकर सभी असमंजस में पड़ गए कि क्या करें,गौ सेवको ने ततकाल 112 को कॉल किया और इसकी जानकारी दी पर 112 ने यह कहकर पल्ला छाड़ लिया कि कोई महिला स्टाफ नही है मैं कुछ नही कर सकता इसके बाद गौ सेवको ने कुसमुण्डा थाना में सूचना दी और वँहा से भी देर शाम तक कोई सकारात्मक पहल देखने को नही मिली,रात होता देख अकेली युवती को लेकर सभी चिंतित होने लगे कि यह अकेली कँहा जाएगी, कँहा रहेगी,फिर किसी ने दर्री सीएसपी खोमनलाल सिन्हा को इस बारे में बताया,

यह भी पढ़ें :-

जिस पर सिन्हा ने तत्काल कोरबा की सखी सेंटर से सम्पर्क कर युवती के रहने की व्यवस्था की एवं कुसमुण्डा पुलिस व 112 को ततकाल युवती को महिला स्टाफ के साथ सखी सेंटर पंहुचाने के लिये निर्देशित किया,इसी बीच पिछले दो दिन से भटक रही युवती के लिए कोरबा नगर निगम एल्डरमेन गीता गवेल ने पहनने के लिए वस्त्र दिए,दर्री सीएसपी खोमनलाल सिन्हा के संवेदनशील व्यवहार की वजह युवती आज सखी सेंटर में है जहा वह फिलहाल आराम से रह रही है,

कम उम्र में शादी जैसा बड़ा फैसला व गलत युवक का चुनाव युवती को ना सुसराल में रहने लायक छोड़ा ना ही घर पर,ऐसे में जब सारे दरवाजे बंद हो गए तो सखी सेंटर ने अपना दरवाजा खोला,अब युवती आगे किस तरह से जीवनयापन करती है,यह उसके ही ऊपर है,युवती की इस एक गलती से उसका जीवन आज गर्त में है,यह समाज के उन सेकड़ो हजारो युवाओ के लिए कड़वी सच्चाई व सीख है जो नादानी में ऐसा कदम उठा बैठते हैं..

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button