कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए ऐसा न करें मंत्री -बिहार सरकार

बिहार में बढ़ते कोरोना संक्रमण के खतरे को रोकने के लिए बिहार सरकार ने लॉकडाउन लगाया

पटना:बिहार सरकार द्वारा लॉकडाउन लगाए जाने के बावजूद कुछ मंत्री विभिन्न सरकारी योजनाओं के क्रियान्वयन और अन्य कार्योंं के सिलसिले में भ्रमण करते दिख रहे हैं. मंत्रियों के निर्वाचन क्षेत्र या अपने प्रभार के जिलों में परिभ्रमण की सूचनाओं पर बिहार सरकार के अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखा है.

इसमें निर्देश दिया गया है मंत्री कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए ऐसा न करें. पत्र में लिखा गया है कि बिहार कोरोना वायरस की वजह से महामारी की दूसरी लहर के प्रभाव में है. राज्य सरकार ने महामारी के संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए निर्देश जारी कर दिए हैं.

इसमें कहा गया कि लॉक डाउन की अवधि में बेवजह बाहर न निकलें. इसके लिए कड़े प्रतिबंध भी लगाए हैं. इसमें कहा गया है कि मंत्रीगण की ओर से प्रतिबंधों की अवधि में जिलों का परिभ्रमण करने से आम जनता के ऊपर इन प्रतिबंधों का अनुपालन मजबूती से किए जाने पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है.

पत्र में सचिवों को ये निर्देश दिया गया है कि वे अपने स्तर से प्रतिबंध की अवधि के दौरान राज्य सरकार की ओर से संचालित योजनाओं या कोरोना महामारी के हालात की जानकारी प्राप्त करन अपने निर्वाचन क्षेत्र या अपने प्रभार के जिलों में न जाएं. मंत्री को अगर किसी भी प्रकार की समीक्षा की आवश्यकता होने पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग का विकल्प विकल्प लिया जा सकता है.

बिहार सरकार के इस निर्देश से ये इशारा मिलता है कि लॉक डाउन को सफल बनाने के लिए राज्य सरकार कितनी गंभीर दिख रही है. इसकी वजह भी है, क्योंकि लॉक डाउन की वजह से कोरोना संक्रमण के मरीजों की संख्या में लगातार गिरावट देखी जा रही है.

अगर इसी बीच मंत्रियों का आवागमन बढ़ता गया तो लोग भी इस दौरान बाहर निकल सकते हैं. इसका लॉक डाउन पर बुरा असर पड़ सकता है. इस निर्देश के बाद उम्मीद है कि मंत्रियों का दौरे पर निकलना बंद हो जाए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button