अनजाने में ना करें सावन में ये गलती नहीं तो भोले हो जाएगे नाराज़

व्यक्ति इन चीज़ों का भोलेनाथ पर अर्पित करता

शास्त्रों के अनुसार भोलेनाथ एकमात्र ऐसे देव हैं, जो बहुत जल्दी ही भक्तों से प्रसन्न होकर उनपर अपनी कृपा बरसा देते हैं। इसलिए सावन के महीने में इनकी विशेष पूजा की जाती है।

लेकिन इस पूजा में अगर किसी से अनजाने में भी कोई गलती हो जाए तो भगवान शंकर उनसे रुष्ट हो जाते हैं। ज्योतिष के अनुसार शिवजी को इन 7 चीज़ों को कभी नहीं चढ़ाना चाहिए।

जो भी व्यक्ति इन चीज़ों का भोलेनाथ पर अर्पित करता है, तो उन पर शंभू खुश होने के बजाए नाराज़ हो जाते हैं। तो आईए जानें आखिर कौन सी हैं ये 7 चीज़े-

पौराणिक कथाओं के अनुसार शिव ने शंखचूड़ नाम के असुर का वध किया था। शंख को उसी असुर का प्रतीक माना जाता है जो भगवान विष्णु का भक्त था। इसलिए विष्णु भगवान की पूजा शंख से होती है शिव जी की नहीं।

तुलसी

जलंधर नामक असुर की पत्नी वृंदा के अंश से तुलसी का जन्म हुआ था जिसे भगवान विष्णु ने पत्नी रूप में स्वीकार किया है। इसलिए तुलसी से भी शिव जी की पूजा नहीं होती है।

तिल

कहा जाता है कि यह भगवान विष्णु के मैल से उत्पन्न हुआ था इसलिए इसे भोलेनाथ पर अर्पित नहीं किया जाता।

टूटे हुए चावल

शास्त्रों में लिखा है कि टूटा हुआ चावल अपूर्ण और अशुद्ध होता है इसलिए यह शिव जी को नही चढ़ाना चाहिए।

कुमकुम

यह सौभाग्य का प्रतीक है जबकि भगवान शिव वैरागी हैं इसलिए शिव जी को कुमकुम चढ़ाना वर्जित है।

Back to top button