क्या आपके बच्चे को भी सर्दी, खॉसी और एलर्जी से जुड़ी समस्या तो अपनाएं ये टिप्स

अगर इसका इलाज ठीक समय पर न किया जाए तो यह बच्चों को ज्यादा करेगी परेशान

सभी माता-पिता अपने बच्चे की सेहत को लेकर काफी फिक्रमंद रहते हैं। अगर उसे छोटी सी छिंक भी आ जाती है तो पूरा परिवार चिंता में पड़ जाता हैं। बदलते मौसम में बच्चों को छोटी-मोटी इंफैक्शन हो जाती है।

जिस वजह से वह पूरा दिन और रात सो नहीं पाते और परेशान हो जाते हैं। दरअसल, एलर्जी के दौरान बच्चे के पेट में दर्द व शरीर पर रैशेज की समस्या रहती हैं। अगर आपके बच्चे में भी ऐसे लक्षण दिख रहे है तो समझ जाए कि बच्चे को एलर्जी हो गई है।

वैसे तो इस तरह की एलर्जी में जल्द ही राहत मिल जाती है लेकिन अगर इसका इलाज ठीक समय पर न किया जाए तो यह बच्चों को ज्यादा परेशान करती है। इसलिए माता-पिता को पता होना चाहिए कि आपके बच्चों को कहा और किस चीज से एलर्जी हो रही हैं।

1. बंद नाक

बंद नाक एक मौसमी समस्या है। सर्दी-जुकाम के कारण नाक बंद हो जाती है, जिस वजह से बच्चे का सांस लेना तक मुश्किल हो जाता है। अगर आपका बच्चा मुंह से सांस ले रहा है तो समझ जाए कि उसकी नाक बंद है। बच्चे को गर्म पानी का भाप देकर बंद नाक की समस्या से छुटकारा पाए।

2. लाल आंखें

यह समस्या वायरस या धूल मिट्टी के कारण होती है, जिस वजह से आंखों में एलर्जी हो जाती है। बच्चे की आंखे लाल व उनमें से पानी निकलने लगता हैं। ऐसी परिस्थिति में बच्चे को हल्का ज़ुकाम व थोड़ी खुजली भी हो सकती है। ऐसे में बच्चे को तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाए।

3. रैशेज

अगर बच्चों के रैशेज की समस्या है तो उसे एक्जिमा या फिर बच्चे का साबुन व कपड़े भी हो सकते हैं।

दरअसल, बच्चे की त्वचा बहुत संवेदनशील होती है, जिस वजह से रैशेज की समस्या आं देखने को मिलती है। ऐसे में परेशान होने की जरूरत नहीं है। एक गिलास में 1 चम्मच विनेगर व शहद मिलाकर पी लाएं।

4. पेट खराब होना

पेट से संबंधित परेशानियां अक्सर एलर्जी की वजह से होती है। इस तरह की एलर्जी में उल्टी, डायरिया, दर्द आदि के लक्षण नजर आते हैं। ऐसे में बच्चों को तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाएं।

इसके अलावा एक गिलास पानी में थोड़ी चीनी और एक चुटकी नमक मिलाकर बच्चे को पिलाएं।

5. अनिद्रा

अगर बच्चा रातभर नहीं सोता तो समझ जाए कि उसे किसी प्रकार का दर्द सता रहा हैं। इसके अलावा कभी-कभी दांत निकालते समय भी बच्चे को इस तरह की दिक्कत आती है। नींद न आने पर बच्चें को पैरों के तलवों की किसी भी तेल से मसाज करें।

Back to top button