घरौंदा संस्था में इलाज करा रही बच्ची के साथ डॉक्टर ने किया दुष्कर्म, संस्था पर उठे सवाल

रायपुर।

राजधानी के घरौंदा संस्था में पिछले 5 साल से भर्ती एक बच्ची का इलाज कर रहे डॉक्टर द्वारा उसके साथ दुष्कर्म करने का मामला सामने आया है। बच्ची मानसिक तौर पर बीमार बताई जा रही है, जिसे इलाज के लिए संस्था में भर्ती कराया गया था।

बता दें कि कोपलवाणी के घरौंदा संस्था में बेहतर उपचार के लिए बच्ची को भर्ती कराया था, लेकिन उन्हें उम्मीद नहीं थी कि उनकी बच्ची वहां के डाक्टर की हवस का शिकार हो जाएगी। परिजनों ने इसकी शिकायत पहले तो सखी सेंटर में की, लेकिन बाद में मामले को थाने भेज दिया गया।

परिजनों का आरोप है कि दिवाली के आस-पास उनकी बच्ची के साथ संस्था में ही काम करने वाले डॉक्टर ने दुष्कर्म किया है। परिजनों ने बताया कि जब बच्ची घरौंदा से 6 जनवरी को घर लौटी, तो अचानक उसकी तबीयत बिगड़ने लगी। इसके बाद उसने इस बारे में अपनी मां को बताया, जिसके बाद इस पूरे मामले का खुलासा हुआ।

घरौंदा के वार्डन ने भी किया प्रताड़ित

पीड़ित बच्ची ने बताया कि संस्था के डॉक्टर अजय साहू ने उसे पहले तो टॉफी दिया उसके बाद कमरे में कुछ काम के बहाने ले गया और वहां पर उसके साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया। परिजनों का कहना है पहले भी घरौंदा के वार्डन और कर्मियों ने उनकी बच्ची के साथ मारपीट की थी, लेकिन संस्था के माफी मांगने और दोबारा ऐसी घटना न होने का आश्वासन दिलाने पर इसकी शिकायत थाने में नहीं की थी।

बता दें कि कोपलवाणी संस्था की एक शाखा घरौंदा में मानसिक रूप से बीमार बच्चों को रखा जाता है और उन्हें बेहतर जीवन शैली सीखाई जाती है। बच्चों को स्वास्थ्य लाभ देने के साथ-साथ कुछ हुनर भी सिखाए जाते हैं, लेकिन इस घटना के बाद इस संस्था पर उंगली उठने लगी है और ऐसे में संस्था के संस्थापक कर्मचारी सहित संस्था से जुड़े लोग भी संदेह के घेरे में हैं, क्योंकि संस्था ने इस घटना को दबाने की कोशिश की थी।

नहीं हुई अभी तक गिरफ्तारी

पुलिस ने संस्था में कार्यरत डॉ. अजय साहू के खिलाफ मामला दर्ज कर बच्ची को मेडिकल टेस्ट के लिए भेज दिया है। पुलिस ने बताया कि अभी तक मेडिकल रिपोर्ट नहीं आई है और न ही इस मामले में अभी तक कोई गिरफ्तारी हो सकी है। परिजनों को उम्मीद है कि पुलिस इस मामले में आरोपी के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करेगी और उन्हें न्याय दिलाएगी।

Back to top button