मेकाहारा में डॉक्टर – मरीज के परिजन का मारपीट मामला : डॉक्टरों ने रखा पक्ष , बोले – हंगामा शांत कराया तो कर दी पिटाई

डॉक्टरों ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर असुरक्षित महसूस कर रहा है। शासन सुरक्षा मुहैया कराए

रायपुर: मेकाहारा में पिछले दिनों 16 अप्रैल को मरीज के परिजनों और डॉक्टरों के बीच मारपीट मामले में जूनियर डॉक्टरों अपना पक्ष रखा है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में डॉक्टरों ने कहा कि घटना के दौरान एनेस्थीसिया डॉक्टर एक गंभीर रोगी मरीज का उपचार कर रहे थे, तभी वहीं अन्य विभाग में मौजूद एक मरीज के परिजनों का हंगामा चालू हो गया, इस दौरान जब एनैस्थिसिया के डॉक्टर ने मरीज के परिजनों को शांत कराने की कोशिश की तो मरीज के परिजनों ने डॉक्टर की जमकर पिटाई कर दी।मामले में मरीज के परिजनों पर कार्यवाही के बाद उन्हें जमानत दे दिया गया जो कि गलत है।

उन्होंने कहा कि अस्पताल में ऐसी घटनाएं घटती जा रही है ये तीसरी घटना है, जब मरीज के परिजनों ने हंगामा कर डॉक्टरों की ही पिटाई कर दी।अस्पताल की अनुपलब्धता पर पब्लिक डॉक्टरों पर टूट पड़ती है।डॉक्टरों ने कहा कि मेकाहारा में अच्छी चिकित्सा सेवा के साथ स्टाफ की व्यवस्था की जानी चाहिए।सबसे बड़े अस्पताल मेकाहारा में मरीजों की संख्या भी अधिक होती है।लेकिन डॉक्टरों और स्टाफ की कमी को दूर करने कोई पहल नहीं जा रही है। डॉक्टरों ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में डॉक्टर असुरक्षित महसूस कर रहा है। शासन सुरक्षा मुहैया कराए।

Back to top button