छत्तीसगढ़

प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पसान में डॉक्टरों की लापरवाही, नहीं होती मरीजों की देखभाल

रितेश गुप्ता:

पसान: पोड़ी उपरोड़ा विकासखण्ड ग्राम पसान, कुम्हारी दर्री निवासी अरविंद सिंह के पत्नी के साथ ऐसी घटना हुई जिसको सुनकर सब आश्चर्यचकित हुए। जहाँ एक ओर इस युग मे भगवान के बाद डॉक्टरों को दूसरा दर्जा दिया जाता हैं। वहीं इसके ठीक विपरीत डॉक्टर की लापरवाही व व्यवहार से पीड़िता को रात भर परेशान होना पड़ा।

मामला हैं ग्राम पसान के प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पसान का जहाँ गुरुवार शाम 7 से 8 बजे के आसपास कुम्हारी दर्री निवासी कल्पना सिंह जो कि उल्टी दस्त और बुखार से पीड़ित थी। पीड़िता कल्पना सिंह अपने पति व परिवार के अन्य सदस्यों के साथ अपना इलाज करवाने पसान स्तिथ प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पहुँची।

पीड़िता के पति को अपने आवास में देखकर भड़क उठे डॉक्टर

पहुँचने के बाद जैसे ही पीड़िता के पति डॉक्टर को ईलाज करने हेतु बुलाने के लिये उनके आवास पहुँचे, डॉक्टर दुष्यन्त कश्यप पीड़िता के पति को अपने आवास में देखकर भड़क उठे और पीड़िता के पति को बोला कि ये कोई समय है आने का, अस्पताल 5 बजे बंद हो जाता हैं। यह नही मालूम है क्या तुम लोगो को। इसके बाद इस तरह से पीड़िता कल्पना एवं उसके पति से अभद्रतापूर्वक व्यवहार किया।

पसान प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर का आलम यह है कि जो मरीज एडमिट हैं उसे देखने के लिये डॉक्टर अपना केविन छोड़ कर नही आते। दवाइयो की अनुपलब्धता के कारण यहाँ मरीजो को पूरी दवाइयां बाहर से खरीदनी पड़ती हैं। पसान हॉस्पिटल जिसके ऊपर आसपास के अनेक गांव के लोग निर्भर है।

इस तरह की अव्यस्थाओ के कारण आमजन को अनेक दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा हैं। चूँकि यह आदिवासी बहुल इलाकों है यहाँ के लोग गरीब एवं निर्धन है। गरीब किसानों को अपना इलाज कराने दर दर घूमना पड़ता हैं।

आमजन में काफी भय एवं रोष का माहौल वयाप्त

पसान प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में उचित उपचार नही होने से आमजन में काफी भय एवं रोष का माहौल वयाप्त है। ग्रामीणों का कहना है कि डॉक्टर के द्वारा यहाँ उचित इलाज नही किया जाता हैं यह सिर्फ नाममात्र का अस्पताल हैं।

ग्रामीणो का कहना है कि यहाँ पदस्थ डॉक्टर दुष्यन्त कश्यप कभी भी समय से नही आते है। 12 से 1 बजे के बाद ही आते हैं पसान हॉस्पिटल के इस तरह के कृत्यों से गरीब आदिवासीयो का लगातार शोषण हो रहा है।

यहाँ डॉक्टर की इस प्रकार मनमानी का मुख्य कारण ये है कि पसान जिला मुख्यालय से लगभग 110 किलोमीटर दूर बीहड़ क्षेत्र हैं। जिसके कारण यहाँ उच्च अधिकारियों का दौरा कभी नही होता ।यहाँ क्या हो रहा है क्या नही इसकी जानकारी अधिकारियों को नही होती जिससे उच्च अधिकारि यहाँ की समस्याओं से अनभिज्ञ रहते हैं ।

Tags
Back to top button
%d bloggers like this: