छत्तीसगढ़

कोविड अस्पतालों के डॉक्टर्स बिना किसी दबाव के कार्य करें : कलेक्टर भीम सिंह

कोरोना मरीजों के लिये निजी अस्पतालों के ऑक्सीजन सुविधायुक्त 40 बेड उपलब्ध

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

रायगढ़, 9 सितम्बर2020: कलेक्टर भीम सिंह ने आज कलेक्टोरेट सभाकक्ष में शहर के निजी अस्पतालों के प्रबंधक चिकित्सकों से ऑक्सीजन सुविधा युक्त बेड उपलब्ध कराने के लिये सहयोग करने को कहा। वर्तमान में जिले में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है इसमें गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन सुविधा वाले बेड की आवश्यकता होती है। शहर के अपेक्स अस्पताल में 20 बेड, मेट्रो अस्पताल में 10 और मिशन अस्पताल में 10 बेड उपलब्ध कराने के लिये इन अस्पतालों ने सहमति प्रदान किया।

अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों की देखभाल और इलाज के लिये आईएमए (इंडियन मेडिकल एसोसियेशन)की ओर से चिकित्सकों तथा स्टॉफ की सेवायें उपलब्ध करायी जायेगी। इन्हें स्वास्थ्य विभाग द्वारा कोरोना अस्पतालों में सेवा देने का प्रशिक्षण भी दिया जायेगा। कलेक्टर सिंह ने निजी अस्पतालों के चिकित्सकों से उनके अस्पतालों में आने वाले सर्दी, खांसी, बुखार से संबंधित मरीजों का अनिवार्यत: कोरोना टेस्ट कराये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने निजी अस्पतालों में कोरोना संक्रमित मरीजों को आवश्यक दवाईयां उपलब्ध कराये जाने हेतु मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देशित किया।

कलेक्टर सिंह ने कहा

कलेक्टर सिंह ने कहा कि वर्तमान स्थिति में कोरोना संक्रमित मरीजों के लिये शासन द्वारा होम आईसोलेशन के नियमों में शिथिलता प्रदान की गई है। जिसमें किसी व्यक्ति को कोरोना पॉजिटिव पाये जाने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम जाकर जांच करेगी कि मरीज के रहने के लिये पृथक रूम और शौचालय है कि नहीं इस आधार पर बिना लक्षण तथा प्रारंभिक लक्षणों वाले व्यक्ति को अण्डर टेकिंग (वचन-पत्र) भरवाकर होम आईसोलेशन की अनुमति प्रदान की जायेगी। होम आईसोलेशन में रहने वाले मरीजों को थर्मामीटर, आक्सीमीटर तथा पल्सरेट मीटर जैसे आवश्यक उपकरण स्वयं क्रय करना होगा, स्वास्थ्य विभाग की टीम प्रतिदिन निगरानी करेगी और दवाईयों का किट प्रदान करेगी तथा मरीज स्वयं मोबाइल फोन के द्वारा डॉक्टर्स से संपर्क कर सकता है।

कलेक्टर सिंह ने कोविड अस्पतालों में सेवा कर रहे डॉक्टरों को निर्देशित किया कि बिना किसी दबाव या सिफारिश के कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज करें और मरीज की हालत तथा मेरिट के अनुसार तय करें कि उसे कौन से अस्पताल में भर्ती किया जाना है। बैठक में सीईओ जिला पंचायत ऋचा प्रकाश चौधरी, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एन.केशरी एवं स्थानीय निजी अस्पतालों के प्रबंधक चिकित्सक तथा आईएमए के पदाधिकारी उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button