गणतंत्र दिवस पर मुख्य अतिथि हो सकते हैं डोनाल्ड ट्रंप

वाइट हाउस जल्द लेगा फैसला

वाशिंगटन : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पड़ोसी देशों के साथ रिश्ते बेहतर करने में लगे हुए हैं। इसी के चलते भारत के प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी ने अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को भारत के गणतंत्र दिवस के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि आने का न्योता भेजा था। लेकिन अभी तक अमरीका की तरफ से भारत के निमंत्रण का कोई जवाब नहीं आया है। माना जा रहा है कि वाइट हाउस जल्द ही इस पर कोई फैसला ले सकता है। इस मामले में वाइट हाउस की मीडिया सचिव सैंडर्स ने कहा, ” मैं जानती हूं कि भारत से न्यौता मिला है, लेकिन मैं नहीं मानती कि इस पर अंतिम फैसला कर लिया गया है।”

जल्द हो सकता है फैसला : जब वाइट हाउस की प्रवक्ता सैंडर्स से अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प के भारत जाने के बारे में सवाल पूछा तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा कि भारत से आये निमंत्राण के बारे में उनको जानकारी है, लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड भारत के इस स्वीकार करेंगे या नहीं इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं है। साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि अभी तक उन्हें इस बारे में कोई नहीं दी गई है कि राष्ट्रपति डोनाल्ड भारत जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि 2+2 वार्ता में राष्ट्रपति की अगले साल की यात्रा पर चर्चा की जाएगी।

क्या ट्रंप भारत आएंगे ? : गौरतलब है कि भारत ने अमरीकी राष्ट्रपति ट्रम्प को गणतंत्र दिवस के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित किया है। अगर अमरीका की तरफ से ये निमंत्रण स्वीकार किया गया तो ये भारत की विदेश नीति के लिए एक सकारात्मक कदम साबित होगा। राजनीतिक विशेषज्ञों की माने तो भारत में डोनाल्ड ट्रम्प का गणतंत्र दिवस के मौके पर होना विदेश नीति में भारत की बहुत बड़ी सफलता होगी। भारत ने इसी साल अप्रैल में ही अमेरिका को ये न्योता भेजा था। इसके पहले भी बराक ओबामा भारत के गणतंत्र दिवस के मौके पर बतौर मुख्य अतिथि आ चुके हैं।

2015 में बराक ओबामा ऱह चुके हैं मुख्य अतिथि : बता दें कि भारत सरकार हर साल 26 जनवरी को विदेशी नेताओं को भारत में बतौर मुख्य अतिथि आमंत्रित करती है। इससे पहले साल 2015 में बराक ओबामा, 2016 में फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रैंकोईस होलैंड, 2017 में अबू धाबी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान और 2018 में आसियान के सभी 10 नेता भारतीय गणतंत्र दिवस के मुख्य अतिथि थे।

Back to top button