टेक्नोलॉजी

डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी के 100वें जन्मदिवस पर गूगल ने डूडल बनाकर किया याद

देश में अंधेपन से जूझ रहे लोगों की आंखों को रोशनी देकर उनकी जिंदगी में उजाला भरा

नई दिल्ली:

देश के प्रसिद्ध नेत्र सर्जन डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी के 100वें जन्मदिन के मौके पर गूगल ने डूडल (Google Doodle) बनाकर उन्हें याद किया है।

तमिलनाडू के वडामल्लपुरम में 1 अक्टूबर, 1918 को जन्में डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी ने देश में
अंधेपन से जूझ रहे लोगों की आंखों को रोशनी देकर उनकी जिंदगी में उजाला भरा.

गोविंदप्पा वेंकटस्वामी के 100वें जन्मदिवस पर गूगल ने उन्हें सम्मानित करते हुए
डूडल का शीर्षक Govindappa Venkataswamy’s 100th Birthday रखा है.

चेन्नई के स्टैनली मेडिकल कॉलेज से डिग्री लेने के बाद डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी ने नेत्र विज्ञान की पढ़ाई की
और आंखों की रोशनी गंवा रहे लोगों की जिंदगी में प्रकाश डाला.

87 साल की उम्र में 7 जुलाई, 2006 को गोविंदप्पा वेंकटस्वामी ने दुनिया से अलविदा कह दिया.

पद्माश्री से सम्मानित डॉ. गोविंदाप्पा वेंकटस्वामी ने 1 लाख से ज्यादा आंखों की सर्जरी कर, दृष्टिहीनों को जीने की वजह दी.

डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी अरविंद आई हॉस्पिटल्स के संस्थापक भी है,

जो आंखों के इलाज का दुनिया में सबसे अस्पतालों के नेटवर्क के तौर पर पहचाना जाता है.

डॉ. गोविंदप्पा वेंकटस्वामी को कम लागत में आंखों के उच्चस्तरीय इलाज के लिए लोकप्रियता हासिल है.
अरविंद आई केयर सिस्टम में अबी तक साढ़े पांच करोड़ लोगों का इलाज हो चुका है और 68 लाख सर्जरी की जा चुकी हैं.


ताज़ा हिंदी खबरों के साथ अपने आप को अपडेट रखिये, और हमसे जुड़िये फेसबुक और ट्विटर के ज़रिये

Tags