जॉब्स/एजुकेशन

डॉ. सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन फिर बने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के कुलाधिपति

अलीगढ़: लगातार दूसरी बार डॉ. सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन और नवाब इब्ने सईद खान आफ छतारी को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय का क्रमशः कुलाधिपति और सहकुलाधिपति चुना गया.

साथ ही विश्वविद्यालय का मानद ट्रेजरार इब्ने सीना अकादमी के अध्यक्ष प्रोफेसर सैयद जिल्लुर रहमान को चयनित किया गया है.

यह चयन अमुवि कोर्ट की विशेष बैठक में सर्वसम्मति से किये गये. यह बैठक एनआरएससी क्लब में आयोजित हुई.

इसमें अमुवि कोर्ट के 100 से अधिक सदस्यों ने भाग लिया. चुनाव परिणामों की घोषणा मुख्य चुनाव अधिकारी प्रोफेसर जहीरउद्दीन ने की.

विश्वविद्यालय के कुलसचिव अब्दुल हमीद की ओर से जारी नोटिफिकेशन के अनुसार तीनों पदों का कार्यकाल आगामी तीन वर्षों तक रहेगा.

कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर ने चुनाव के बाद अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के अति महत्वपूर्ण पदों पर संस्था के हमदर्द, बड़ा अनुभव रखने वाली महान विभूतियों के चुनाव से विश्वविद्यालय को लाभ पहुंचेगा और यह संस्था विकास के पथ पर अग्रसर होगी.

कोर्ट की बैठक में सांसद हुसैन दलवाई, केसी त्यागी, उत्तर प्रदेश के पूर्व मंत्री डॉ. अम्मार रिज़्वी, कमाल फारूकी, डॉ. मैराजउद्दीन अहमद, सिराजउद्दीन कुरैशी, एसएम खान, जफर इकबाल, डॉ. सैयद जफर महमूद, मौलाना फजलुर रहीम मुजद्ददी और अन्य लोग उपस्थित रहे.

अमुवि के कुलसचिव अब्दुल हमीद ने बैठक का संचालन किया. विश्वविद्यालय कोर्ट की वार्षिक बैठक भी एनआरएससी क्लब में ही आयोजित हुई. इस दौरान बैठक के एजेंडे के 16 बिन्दुओं पर विचार किया गया. डा. हशमत अली खान ने कहा कि सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन, नवाब इब्ने सईद खान आफ छतारी और प्रोफेसर हकीम सैयद जिल्लुर रहमान का निर्विरोध चुनाव इस बात का परिचायक है कि एएमयू कुलपति प्रोफेसर तारिक मंसूर को विश्वविद्यालय के सभी वर्गों का विश्वास प्राप्त है. वह पूरी यूनीवर्सिटी बिरादरी की संपूर्ण विश्वसनीयता और आशाओं के अनूकूल आगे ले जाते हुए विकास के नये आयाम स्थापित कर रहे हैं.

Summary
Review Date
Reviewed Item
डॉ. सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन फिर बने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविधालय के कुलाधिपति
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags