छत्तीसगढ़

नाटकीय सियासत: पति ने लगाया आरोप,युवक पत्नी का अपहरण कर ले गया,जानिए पूरा मामला…

आरोपी युवक के पिता के राजनैतिक पहुँच की वजह से कोइ कार्यवाही नही होती है, आरोपी अक्सर परेशान करता है।

मरवाही,23 अक्टूबर 2020। मरवाही उप चुनाव के दौरान नाटकीय मामला सामने आया। दोपहर एक युवक बच्चे के साथ बिलखते हुए जीपीएम कप्तान सूरज सिंह परिहार के दफ़्तर के बाहर नुमाया हुआ और उसने आरोप लगाया कि, उसकी पत्नी का बलपूर्वक अपहरण हो गया है। युवक ने आरोप जिस पर लगाया उसके पिता के कांग्रेस ज़िलाध्यक्ष होने से मामले ने तूल पकड़ लिया, युवक ने आरोप में यह शब्द भी जोड़े कि, आरोपी युवक के पिता के राजनैतिक पहुँच की वजह से कोइ कार्यवाही नही होती है, आरोपी अक्सर परेशान करता है।

देर शाम इस मसले पर एक नई पटकथा का पन्ना लिखा गया। जिस आरोपी युवक पर महिला के अपहरण का आरोप था, पुलिस ने उसकी गुमशुदगी का मामला दर्ज किया है। वहीं वो पति जो जीपीएम कप्तान के कार्यालय के सामने बिलखते हुए नुमाया हुआ था,उसकी तहरीर पर फ़िलहाल कोई अपराध पंजीबद्ध नही हुआ है।

दोपहर को दुर्गेश करियाम नामक व्यक्ति जीपीएम कप्तान के ऑफ़िस पहुँचा और उसने लिखित आवेदन दिया कि मोहनीश गुप्ता उर्फ़ दीनू और सेवा नामक दो युवक कल शाम घर पहुँचे और उसके और उसके भाई से मारपीट किए और फिर वह उसकी पत्नी को लेकर चला गया। जिस मोहनीश गुप्ता को लेकर यह आरोप लगाए गए उसके पिता मनोज गुप्ता ज़िला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हैं।

मरवाही में उप चुनाव है, ज़ाहिर है ऐसे समय इस मामले ने सियासी तापमान को बढ़ा दिया। और सियासत तेज हो गई।
देर शाम इस पूरी घटना में एक नया नाटकीय पृष्ठ जुड़ा, जबकि मरवाही थाने में आरोपी बताए गए युवक मोहनीश गुप्ता की गुमशुदगी का मामला दर्ज किया गया।

मरवाही में मोहनीश गुप्ता के भाई की ओर से थाने में तहरीर दी गई जिसमें यह बताया गया कि, मोहनीश अपने दोस्तों जिनके नाम दुर्गेश और सेवा हैं उनके साथ था, जिनका आपस में विवाद हुआ, जिसके बाद से मोहनीश लापता है, इस आवेदन पर पुलिस ने गुमशुदगी का मामला दर्ज किया है।

मरवाही थाने में गुम इंसान के रुप में दर्ज मोहनीश गुप्ता के दिन दो दोस्तों का जिक्र किया गया है, उनमें एक दुर्गेश वही दुर्गेश है जिसे पुलिस अधीक्षक कार्यालय के सामने मोहनीश के खिलाफ आवेदन के साथ देखा गया था।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button