कोलकाता में न्यू ईयर पर ड्रग्स तस्करों की सबसे पसंदीदा जगह

एनसीबी के जोनल निदेशक ने बताया कि नशीले पदार्थों की बिक्री के लिए कॉलेज छात्रों को भी शामिल किया जाता है

कोलकाता में न्यू ईयर पर ड्रग्स तस्करों की सबसे पसंदीदा जगह

कोलकाता पिछले कुछ साल से न्यू ईयर पर ड्रग्स तस्करों की सबसे पसंदीदा जगह बन गई है. यहां पार्टी करने वाले लोगों में ड्रग्स की मांग बढ़ रही है.

नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो (एनसीअी) के अधिकारियों ने बताया कि क्रिसमस और नए साल के मौके पर शहर में कई पार्टियों और कार्यक्रमों का आयोजन होता है और नशीले पदार्थों के तस्कर पार्टी करने वाले लोगों की मांगों को पूरा करने के लिए पहुंच जाते हैं.

बैन हो चुके नशीले पदार्थों को बेचने में कोलकाता टॉप में

कोलकाता ब्यूरो के जोनल निदेशक दिलीप कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि हाल में कोलकाता देश के उन शीर्ष शहरों में शामिल हुआ है जहां इस समय हशीश और एएसडी जैसी बैन चीजें बेची जाती हैं.

उन्होंने बताया इस अवधि में नशीले पदार्थों की मांग बढ़ जाती है और ऐसे पदार्थों को बेचने के लिए कई तस्कर शहर में दिखने लगते हैं. श्रीवास्तव के मुताबिक, ड्रग्स विभिन्न रास्तों से कोलकाता पहुंचते हैं.

उन्होंने कहा, ‘हशीश को मलाना चरस के तौर पर भी जाना है और महंगी नहीं होने के कारण कोलकाता में इसकी खासी मांग है. हशीश मुख्य तौर पर हिमाचल प्रदेश से आती है जबकि एलएसडी जैसे नशीले पदार्थों की आपूर्ति यूरोप, अमेरिका और चीन से होती है.

एनसीबी के एक अन्य वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि बांग्लादेश और नेपाल सीमा से करीब होने की वजह से ये पदार्थ आसानी से कोलकाता पहुंच जाते हैं. एनसीबी के जोनल निदेशक ने बताया कि नशीले पदार्थों की बिक्री के लिए कॉलेज छात्रों को भी शामिल किया जाता है.

advt
Back to top button