पुलिस ने कहा, आधार दिखाओ तब मानेंगे भाई-बहन

महिला सुरक्षा के दावे करने वाली गाजियाबाद पुलिस पर एक डीयू छात्रा और उनके भाई के साथ अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगा है

पुलिस ने कहा, आधार दिखाओ तब मानेंगे भाई-बहन

महिला सुरक्षा के दावे करने वाली गाजियाबाद पुलिस पर एक डीयू छात्रा और उनके भाई के साथ अभद्र व्यवहार करने का आरोप लगा है। यही नहीं, दोनों के रिलेशनशिप में होने की बात पुलिस ने कही। भाई-बहन होने का प्रमाण देने के लिए पुलिस ने उनसे आधार कार्ड मांगा। छात्रा ने घटना का विडियो बनाकर फेसबुक पर अपलोड कर दिया है। घटना वेव सिटी चौकी एरिया की है। विडियो में साफ है कि चौकी प्रभारी अपनी सरकारी गाड़ी एक प्राइवेट आदमी से चलवा रहे थे। एसपी देहात अरविंद कुमार मौर्य का कहना है कि उन्होंने अभी विडियो देखा नहीं है। देखने के बाद आरोपी पर कार्रवाई की जाएगी।

पीड़िता ने पोस्ट में लिखा है कि वह और उनका भाई 20 जनवरी को गाजियाबाद में एक शादी समारोह में हिस्सा लेने आए थे। रास्ता भूलकर दोनों किसी अनजान स्थान पर पहुंच गए थे। एक जगह कार रोककर वे मैप में अपनी लोकेशन डाल रहे थे। इसी दौरान पुलिस की एक गाड़ी आई। उसमें से सिविल ड्रेस में उतरे एक शख्स ने उनके भाई को कार से बाहर खींच लिया। जब उन्होंने बताया कि वे दोनों भाई-बहन हैं तो आरोपी आधार कार्ड मांगने लगा। उसने कहा कि आधार में पिता का नाम एक होने पर ही वह मानेगा कि दोनों भाई-बहन हैं। पीड़िता ने पोस्ट में बताया कि मौके पर पुलिस होने के बाद भी गाड़ी चला रहे प्राइवेट ड्राइवर को उनकी चेकिंग के लिए भेजा गया। पीड़िता का आरोप है कि चौकी प्रभारी भोपाल सिंह ने भी उनके साथ अभद्र व्यवहार किया। उनके हंगामा करने के बाद पुलिस वहां से चली गई।

[responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=”अगर आप पढ़ना नहीं
चाहते तो क्लिक करे और सुने”]

उगाही के लिए रखा था प्राइवेट आदमी
सूत्रों के अनुसार चौकी प्रभारी भोपाल सिंह के साथ सादी वर्दी में मौजूद शख्स पुलिसकर्मी नहीं था। चौकी प्रभारी उससे अपनी सरकारी गाड़ी चलवा रहे थे। इस संबंध में जब एसपी देहात से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अगर ऐसा है तो यह गलत है। आरोपी पुलिसकर्मी पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। हालांकि मोदीनगर में इस तरह की घटना सामने आ चुकी है। एसओजी ने उगाही के लिए एक प्राइवेट आदमी को अपनी टीम में शामिल कर लिया था। इस मामले को खुद एसएसपी ने पकड़ा था। इसके बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।

हत्यारोपी को करवाई थी पार्टी
वेव सिटी चौकी हत्यारोपियों को पार्टी करवाने को लेकर चर्चा में आई थी। मसूरी में 5 साल की बच्ची की हत्या के आरोपियों को चौकी में बैठाकर पार्टी करवाई जा रही थी। इसका विडियो वायरल होने के बाद आनन-फानन में दोनों आरोपियों को जेल भेजा गया। हालांकि आरोपी पुलिसकर्मियों पर तब भी कार्रवाई नहीं हुई।

advt
Back to top button