ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में बड़ा बदलाव, BS-VI लागू होने से क्या डीजल गाड़ियों पर आएंगा संकट

डीजल कारों की कीमतें पेट्रोल वर्जन के मुकाबले 2.5 लाख रुपये तक ज्यादा हो सकती हैं

नई दिल्ली

देश में 1 अप्रैल 2020 से सिर्फ BS-VI एमिशन नॉर्म्स वाली गाड़ियां बिकेंगी। इसके बाद ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री में बड़े बदलाव आ सकते हैं।

Maruti Suzuki India के चेयरमैन आरसी भार्गव ने यह बात कही। उन्होंने कहा कि बीएस-6 आने के बाद मारुति सुजुकी की डीजल कारों की कीमतें पेट्रोल वर्जन के मुकाबले 2.5 लाख रुपये तक ज्यादा हो सकती हैं।

ऐसा इसलिए होगा, क्योंकि डीजल गाड़ी को बीएस-6 में कन्वर्ट करना पेट्रोल के मुकाबला ज्यादा महंगा और कॉम्प्लेक्स प्रोसीजर है। अगर ऐसा होता है तो डीजल गाड़ियों के सामने अस्तित्व का संकट भी आ सकता है।

भार्गव ने कहा कि बीएस-6 नॉर्म्स लागू होने पर कंपनी अपनी पेट्रोल गाड़ियों में स्ट्रॉन्ग हाइब्रिड सिस्टम भी लेकर आएगी, जिससे पेट्रोल गाड़ियों का माइलेज 30 पर्सेंट तक बढ़ जाएगा।

ऐसे में अगर सरकार की ओर से हाइब्रिड गाड़ियों को टैक्स में छूट मिलती है, तो न सिर्फ पेट्रोल और डीजल की गाड़ियों की कीमतों में अंतर कम होगा, बल्कि अभी जो उनके माइलेज में अंतर है, वह भी बराबर हो जाएगा।

अभी डीजल गाड़ियां पेट्रोल के मुकाबले 25 से 30 पर्सेंट तक ज्यादा माइलेज देती हैं। दूसरी तरफ पेट्रोल और डीजल की गाड़ियों में अंतर भी तेजी से कम हो रहा है।

यानी डीजल की गाड़ी आपको 2.5 लाख रुपये महंगी मिलेगी, माइलेज पेट्रोल के बराबर हो जाएगा और उसे आप सिर्फ 10 साल तक चला पाएंगे, जबकि पेट्रोल कार को 15 साल तक चलाया जा सकता है। ये सब बातें इस ओर इशारा कर रही हैं कि बीएस-6 आने के बाद डीजल गाड़ियों के सामने बहुत बड़ा चैलेंज आने वाला है।

advt
Back to top button