कैमूर की दुर्गावती थाना पुलिस ने शादी करने घर से भागे प्रेमी-प्रेमिका को किया गिरफ्तार

ड्राइवर को पन्दवा थाना प्रभारी के घर काम करने वाली लड़की से हुआ प्यार

कैमूर:बिहार में कैमूर की दुर्गावती थाना पुलिस ने शादी करने घर से भागे प्रेमी-प्रेमिका को गिरफ्तार किया है. दरसअल, झारखंड के पन्दवा थाना प्रभारी के ड्राइवर को उनके घर काम करने वाली लड़की से प्यार हो गया. ऐसे में चालक मौके का फायदा उठाकर थाना प्रभारी की गाड़ी और पैसे लेकर लड़की के साथ फरार हो गया.

इधर, जब थाना प्रभारी को इस बात की जानकारी मिली तो उन्होंने कैमूर के दुर्गावती थाने को इस बात की सूचना दी, जिसके बाद पुलिस ने थाना प्रभारी की कार और लगभग छह लाख रुपये कैश के साथ आरोपी ड्राइवर को गिरफ्तार कर लिया.

मिली जानकारी अनुसार झारखंड के पन्दवा थाना प्रभारी की निजी गाड़ी चलाने वाला जितेंद्र सिंह को उनके घर पर काम करने वाली लड़की से प्यार हो गया. वह दोनों एक दूसरे से शादी करना चाहते थे, लेकिन घर वाले राजी नहीं थे, जिस कारण उन्होंने घर से भाग जाने की प्लानिंग की. इसी क्रम में थाना प्रभारी चालक को चार लाख दस हजार रुपये धनबाद पहुंचाने के लिए अपने निजी वाहन से भेजा.

इधर, मौके का फायदा उठाते हुए ड्राइवर ने लड़की को अपने साथ ले लिया और थाना प्रभारी द्वारा दिए गए पैसों से अलग अपने घर से एक लाख अस्सी हजार रुपये लिया और धनबाद जाने के बजाय दिल्ली के लिए रवाना हो गया. जब पैसे धनबाद नहीं पहुंचे तो थाना प्रभारी ने चालक को संपर्क करना चाहा लेकिन उसका मोबाइल बंद आ रहा था.

ऐसे में उन्होंने गाड़ी का जीपीएस लोकेशन देख कर कैमूर पुलिस को फोन किया, जिसके बाद कैमूर जिले के दुर्गावती पुलिस ने गाड़ी लोकेशन के आधार पर घेरा बंदी कर पंडवा थाना प्रभारी के पर्सनल स्कॉर्पियो गाड़ी को जप्त कर लिया. वहीं, लड़के को गिरफ्तार करते हुए लड़की को वापस उसके घर भेज दिया.

घटना के संबंध में आरोपी चालक जितेंद्र सिंह ने बताया कि थाना प्रभारी ने पैसे देने के लिए भेजा था, लेकिन मैं लड़की के साथ अपने घर से पैसा लेकर दिल्ली भागने की तैयारी में था. इसी क्रम में दुर्गावती पुलिस ने मुझे गिरफ्तार कर लिया.

इधर, मोहनिया एसडीपीयो ने कहा कि पन्दवा थाना प्रभारी की पर्सनल गाड़ी लेकर भाग रहे उनके चालक को गिरफ्तार गया है. उसके पास से 5 लाख 90 हजार रुपये बरामद किए गए हैं. पैसे और गाड़ी संबंधित कोई कागजात उसके पास नहीं है, जिस कारण उसे जेल भेजा जा रहा है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button