राष्ट्रीय

राजस्थान के जयपुर में महसूस किये गए 3.1 तीव्रता वाले भूकंप के झटके

इस भूकंप से किसी भी जानमाल की हानि नहीं हुई

नई दिल्ली: राजस्थान के जयपुर में 3.1 तीव्रता वाले भूकंप के झटके महसूस किये गए। यह झटके गुरुवार और शुक्रवार की रात 12.44 बजे राजस्थान के जयपुर से कुछ दूर पर आया। यह झटका जयपुर से 82 किलोमीटर उत्तर की ओर लगा है। अच्छी बात ये रही कि इस भूकंप से किसी भी जानमाल की हानि नहीं हुई है।

बता दें कि इस साल देश में भूकंप के काफी झटके लग रहे हैं। दिल्ली में तो महज 4 महीने में भूकंप के 18 झटके लग चुके हैं। दिल्ली में लगातार आ रहे भूकंप के झटकों को देखते हुए अब दिल्ली सरकार ने लोगों को भूकंप से बचने के लिए एक अभियान की शुरुआत की है। इस अभियान के दौरान दिल्ली निवासियों को भूकंप आने की दशा में बचाव और ऐहतियात बरतने के संबंध में जागरूक किया जा रहा है।

घर और आफिस की मजबूती की करवाएं जांच

दिल्ली सरकार ने सभी लोगों के लिए एक सलाह जारी करते हुए कहा कि अपने घर और काम करने वाली जगह की मजबूती की जांच करवाएं। अगर जरूरत पड़े तो स्ट्रक्चरल इंजीनियर से सलाह लें और दरार व अन्य खिामयों को सही करवाएं।

दिल्ली सरकार ने अपने परामर्श में कहा, ‘‘जांच कर लें कि आपके घर या ऑफिस के सभी फर्नीचर, जमीन, दीवार व छत से मजबूती के साथ सटे हों या बंधे हों। पहियों वाले फर्नीचर व कोई स्टोरेज उपकरण आदि जमीन पर जहां रखें हों, वहां वो अच्छे तरीके से लॉक किए गए हों।’’ भूकंप में अगर आप फंसे हैं, तो खुद आवाज लगाने की जगह आसपास की चीजों से आवाज करने का प्रयास करें।

इन चीजों से दूर खड़े रहें

यदि आप बाहर हैं तो, खुली जगह पर जाएं और पेड़, साइन बोर्ड, बिल्डिंग, बिजली के तार व खंभों से दूर रहें। दिल्ली सरकार ने अपनी एडवाइजरी में कहा कि आपातकालीन किट जैसे टॉर्च, पॉवर बैंक व चार्जिग केबल, जरूरी दवाइयां, एलर्जी की बीमारी से सम्बंधित जानकारी, थोड़ा बहुत कैश, जरूरी पहचान पत्रों की फोटो कॉपी, अपने ब्लड ग्रुप की जानकारी व एलर्जी संबंधित जानकारी, ऐड किट, पानी का इंतजाम रखें।

विशेषज्ञों के मुताबिक यदि भूकंप के दौरान कोई व्यक्ति अंदर हैं तो, ड्रॉप-कवर-होल्ड का अभ्यास करें। किसी मजबूत मेज या बेड के नीचे चले जाएं। एक हाथ अपने सिर पर रखकर उसे सुरिक्षत करें और दूसरे हाथ से फर्निचर को थाम लें। खिड़कियों, बुककेस, बुकशेल्फ, बड़े आकार के शीशे, लटकते हुए पौधे, पंखे और दूसरी भारी चीजों से दूर रहें। भूकंप के झटके रुकने तक अपने आपको इन चीजों से बचाए रखें। जब झटके रुक जाएं, तो अपने घर या स्कूल की इमारत से बाहर निकल कर खुले मैदान की ओर जाएं। दूसरों को धक्का न दें।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button