देश के सबसे लंबे पुल पर भूकंप का भी नहीं होगा असर, साथ-साथ दौड़ेंगी ट्रेन व कारें

गुवहाटी:

असम में देश का सबसे लंबा रेल और सड़क मार्ग वाला पुल बनकर तैयार हो चुका है। इसका नाम बोगीबील ब्रिज है। ब्रह्मपुत्र नदी पर बने इस पुल पर साथ-साथ रेलगाड़ियां और अन्य वाहन दौड़ेंगे। खास बात है कि करीब पांच किमी लंबे इस पुल पर 7 रिक्टर स्केल या उससे अधिक के भूकंप के झटकों का असर भी नहीं होगा। यही नहीं, यह भारत का पहला पूरी तरह वेल्डिंग किया हुआ पुल है।
आगामी 25 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इसका उद्घाटन करेंगे, जबकि इसकी नींव साल 1997 में तत्कालीन पीएम एचडी देवगौड़ा ने रखी थी। हालांकि, इसे बनवाने का काम दिवंगत पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार (2002) में शुरू हुआ था। पुल को बनाने के पीछे का मकसद देश के पूर्वी बॉर्डर से अन्य हिस्सों के बीच के आवागमन को सुलभ और सरल बनाना है।

अरुणाचल प्रदेश और चीन की सरहद के गांव जुड़ेंगे

बोगीबील पुल के जरिए अरुणाचल प्रदेश और चीन की सरहद से लगे अन्य प्रदेशों से आना-जाना बेहद आसान हो जाएगा। डिब्रूगढ़ को यह ढेमाजी से जोड़ेगा। गुवाहाटी प्लस की रिपोर्ट में हिंदुस्तान कंस्ट्रक्शन कंपनी लिमिटेड के प्रोजेक्ट डायरेक्टर आरवीआर किशोर के हवाले से बताया गया कि यह पुल सेस्मिक जोन-4 में है और इस जोन में 7 या उससे अधिक रिक्टर स्केल वाले भूकंप आते रहते हैं। ऐसे में सेस्मिक रेस्ट्रेनर्स इस पुल में सहारे के लिए लगाए गए हैं, ताकि यह भूकंप के झटके को आसानी से झेल सके।

बकौल किशोर, पुल पर भारतीय सेना के टैंक से लेकर 1700 मेगाटन तक का बाकी सामान लाया-ले जाया जा सकता है। पुल को बनाने में वेल्डेड गार्डर तकनीक और उच्च गुणवत्ता के सामान को इस्तेमाल किया गया। कुछ अन्य रिपोर्ट्स में कहा गया कि यह पुल स्वीडेन और डेनमार्क को जोड़ने वाले पुल की तर्ज पर देश में तैयार किया गया है।

new jindal advt tree advt
Back to top button