राष्ट्रीय

वित्त वर्ष 2017-18 में आर्थिक वृद्धि दर 7 प्रतिशत रहने का अनुमान : नीति आयोग

नई दिल्ली: नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने कहा है कि 2013-14 में शुरू आर्थिक नरमी की स्थिति से देश बाहर आ गया है और चालू वित्त वर्ष में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर 6.9 प्रतिशत से 7.0 प्रतिशत रह सकती है. वहीं 2018-19 में इसके 7.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है. वित्त वर्ष 2016-17 में कृषि क्षेत्र के बेहतर प्रदर्शन के बावजूद आर्थिक वृद्धि दर घटकर 7.1 प्रतिशत पर आ गयी. उसी वित्त वर्ष के नवंबर में सरकार ने 500 और 1000 के नोटों को बंद कर दिया. यह चलन में मौजूद कुल करेंसी का 87 प्रतिशत था. तिमाही आधार पर भी चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर तीन साल के न्यूनतम स्तर 5.7 प्रतिशत पर आ गयी. उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि 2018 की पहली तिमाही में आप मजबूत पुनरुद्धार देखेंगे और वित्त वर्ष 2018-19, वित्त वर्ष 2017-18 के मुकाबले अधिक बेहतर होगा और उसके बाद यह स्थिति बनी रहेगी क्योंकि यह अधिक सतत आधार पर होगा.’

उन्होंने कहा कि आर्थिक वृद्धि दर चालू वित्त वर्ष में करीब 6.9 से 7.0 प्रतिशत रहेगी.’ कुमार ने कहा, ‘अगले वित्त वर्ष में वृद्धि दर 7.5 प्रतिशत रहेगी.’ नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने कहा कि देश ने 2007-13 के दौरान अच्छा प्रदर्शन किया और 2013-14 में गिरावट का दौर शुरू हुआ. इसका मुख्य कारण 2007 से ऐसी परियोजनाओं को कर्ज दिया गया जो उसके लिये योग्य नहीं थी.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *