राष्ट्रीय

चुनाव आयोग ने रीवा कलेक्टर से गोली चलाने के आदेश पर मांगा जवाब

भोपाल।

रीवा कलेक्टर प्रीति मैथिल के सुरक्षाकर्मी को बात नहीं मानने पर गोली चलाने के आदेश देने पर चुनाव आयोग ने जवाब-तलब कर लिया है।

कलेक्टर का रीवा से कांग्रेस प्रत्याशी अभय मिश्रा के साथ स्ट्रांग रूम के दौरे के वक्त चर्चा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था। वहीं, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी वीएल कांताराव ने दावा किया कि ईवीएम पूरी तरह सुरक्षित हैं और जमा करते वक्त प्रोटोकॉल का पालन किया गया। चुनाव आयोग को भी इस संबंध में रिपोर्ट भेजी गई है।

मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने सोमवार को स्ट्रांग रूम में ईवीएम रखने को लेकर हो रहीं शिकायतों के मद्देनजर वस्तुस्थिति साफ की। उन्होंने बताया कि जिन मशीनों का इस्तेमाल मतदान के लिए किया गया था, वे 28 नवंबर को देर रात या फिर 29 नवंबर को सुबह तक जिला मुख्यालय में बनाए स्ट्रांग रूम में सुरक्षित पहुंच चुकी हैं। यह पूरी कार्रवाई प्रत्याशी और पर्यवेक्षक की मौजूदगी में हुई।

स्ट्रांग रूम में डबल लॉक है और तीन स्तर की सुरक्षा का घेरा है। प्रत्याशी या उनके प्रतिनिधि स्ट्रांग रूम के बाहर से नजर रख रहे हैं। सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। हर दिन एक निश्चित समय पर कलेक्टर या सक्षम प्राधिकारी प्रत्याशियों को स्ट्रांग रूम का भ्रमण कराते हैं। इस दौरान कोई भी मोबाइल लेकर नहीं जा सकता है। हर व्यक्ति को जांच से गुजरना होता है।

अनुपयोगी मशीनों को स्टोर रूम में रखा गया है। यहां भी सुरक्षा व्यवस्था है। 11 दिसंबर को सुबह आठ बजे से पहले प्रत्याशियों की मौजूदगी में स्ट्रांग रूम खुलेगा और मशीनों को मतगणना के लिए निकाला जाएगा।

मशीनों को लेकर नियम-कायदे का पालन नहीं करने वाले तीन कर्मचारियों को निलंबित किया गया है। वे बोले कि ईवीएम को लेकर हर जानकारी प्रत्याशी को दी जाती है। मशीनें पूरी तरह सुरक्षित हैं और इनमें छेड़खानी नहीं हो सकती है। जहां-जहां से शिकायतें मिली थीं, वहां की जांच रिपोर्ट लेकर चुनाव आयोग को भेजी जा चुकी हैं।

ये बोली थीं रीवा कलेक्टर

सोशल मीडिया में वायरल वीडियो में रीवा कलेक्टर प्रीति मैथिल को कांग्रेस के प्रत्याशी अभय मिश्रा से यह कहते हुए दिखाया गया कि मुझे अभी दस साल हुए हैं। 25 साल की नौकरी है।इस चुनाव में फिजूल के चक्कर में अपनी साख थोड़ी न खराब करूंगी। मुझे आगे जाकर प्रमुख सचिव, मुख्य सचिव तक जाना है। यह एक स्टेज है। इसके लिए वो सब थोड़ी दांव पर लगा देंगे। आप मुझ पर भरोसा करो। आप गोली मार देना, यदि कोई मेरी बात न सुने।

वायरल वीडियो में कलेक्टर कांग्रेस नेताओं से कह रही हैं कि इस चुनाव में इजूल-फिजूल के चक्कर में पड़कर मैं अपनी साख थोड़ी न खराब करूंगी। मैं छोटे-मोटे विवाद में नहीं पड़ना चाहती। 10 साल हो गए हैं और 25 साल की नौकरी है। मुझे आगे जाकर प्रिंसिपल सेक्रेटरी, चीफ सेक्रेटरी बनना है। ये मेरे लिए कुछ नहीं है। यहां कोई आदमी आ नहीं सकता। आप भरोसा करें। ईवीएम के आसपास कोई न भटके, (सुरक्षाकर्मी से बोलीं) गोली मार देना, अगर कोई मेरी बात न सुने। इस मामले में आरटीआई एक्टिविस्ट अजय दुबे ने चुनाव आयोग से कलेक्टर के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
चुनाव आयोग ने रीवा कलेक्टर से गोली चलाने के आदेश पर मांगा जवाब
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags