राजधानी के पास हाथियों का दल, लोग दहशत में

रायपुर। छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर से महज 35 किलोमीटर दूर स्थित आरंग चंदखुरी के फरफौद, बरसा, अकोली गांव में जंगली हाथियों के एक दल ने शुक्रवार की रात को दस्तक दी थी। हाथियों के झुंड ने धान की फसल को भी नुकसान पहुंचाया। इनसे दहशत का माहौल था।

हाथियों का दल राजधानी के करीब पहुंच रहा है, इसकी जानकारी वन विभाग के अधिकारियों को सेटेलाइट रेडियो कॉलर के माध्यम से मिली। इसके बाद वन विभाग के आला अधिकारी शनिवार की सुबह सात बजे मौके पर पहुंचे और रात तक डटे रहे। शाम को हाथियों का झुंड गुल्लू की तरफ वापस लौट गया। हालांकि रविवार को राजधानी के आसपास होने की सूचना फिर मिली है।

अधिकारियों का कहना है कि 12 घंटे की मेहनत के बाद दल के मूवमेंट को महासमुंद की तरफ करने में सफलता मिली। ज्ञात हो कि रायपुर वन मंडल अंतर्गत 28 हाथी तीन ग्रुप में अलग-अगल भ्रमण कर रहे हैं। आरंग के पास अमेठी गांव तक पिछले दस दिनों से लगातार 18 हाथियों का एक दल आ रहा था। इसमें नौ शावक थे। शुक्रवार की रात को हाथियों का मूवमेंट बदला और वे चंदखुरी के फरफौद पहुंच गए।

हाथियों के सेनापति को वन विभाग ने रेडियो कॉलर लगाया है। इस कारण इस दल के मूवमेंट की जानकारी प्रत्येक चार घंटे में वन विभाग के अधिकारियों को मिलती रहती है। शनिवार की सुबह वन विभाग के अधिकारियों को राजधानी से नजदीक हाथियों के दल के आने की जानकारी मिला। सूचना पर वाइल्ड लाइफ सीसीसीएफ, केके बिसेन, डीएफओ उत्तम गुप्ता अपनी टीम के साथ मौके पर पहुंचे।

गुल्लू गांव की तरफ लौटे

टीम सुबह सात बजे से हाथियों की दिशा को महासमुंद की तरफ करने की कसरत शुरू कर दी। करीब छह बार हाथियों की दिशा को रायपुर से महासमुंद की तरफ बदला गया, लेकिन हाथी वापस लौट आते थे, इससे वन विभाग के अधिकारियों की मुश्किल बढ़ गई थी। शाम करीब साढ़े पांच बजे हाथियों के दल के दिशा महासमुंद की तरफ बदली और वे गुल्लू गांव की तरफ लौटे।

1
Back to top button