सांसद अस्र्ण साव के नेहरू चौक स्थित शासकीय आवास का घेराव

घेराव के दौरान समिति के पदाधिकारियों से लेकर शहरवासियों ने जोरदार नारेबाजी की

बिलासपुर।बिलासपुर से हवाई सुविधा की मांग को लेकर हवाई सेवा संघर्ष समिति द्वारा अखंड धरना प्रदर्शन किया जा रहा है। धरना प्रदर्शन का आज 222 वां दिन है। बीते दिनों समिति के पदाधिकारियों ने ऐलान किया था कि धरना प्रदर्शन को आगे बढ़ाते हुए अब सीधी लड़ाई लड़ी जाएगी।

इसके लिए जनप्रतिनिधियों के घेराव का निर्णय लिया गया था। इसे जनबंधन नाम दिया गया है। जनबंधन आंदोलन की शुस्र्आत बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद अस्र्ण साव के शासकीय बंगले के घेराव से करने का ऐलान भी किया था।

इसी बीच बिलासपुर लोकसभा क्षेत्र के सांसद अस्र्ण साव के नेहस्र् चौक स्थित शासकीय आवास का घेराव कर दिया। घेराव के दौरान समिति के पदाधिकारियों से लेकर शहरवासियों ने जोरदार नारेबाजी की।

शहरवासी शहर से शीघ्र हवाई सुविधा की मांग कर रहे हैं। घेराव के दौरान पुलिस बल की मौजूदगी भी रही। बंगले के बाहर पुलिस ने बेरीकेडिंग कर दिया था और बड़ी संख्या में पुलिस के जवान तैनात थे।

इसके लिए एक जनवरी की तिथि तय की गई थी। तय तिथि में सुबह 11 बजे संघर्ष समिति के पदाधिकारी,युवा व शहरवासियों की भीड़ धरना स्थल राघवेंद्र राव सभा भवन से नारेबाजी करते हुए नेहस्र् चौक की तरफ कूच किया।

सांसद बंगले के घेराव की जानकारी जैसे ही पुलिस प्रशासन को लगी सुबह से ही बंगले के बाहर पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई थी। मुख्य मार्ग के सामने बंगले जाने वाली रास्ते को घेरकर बेरीकेडिंग कर दिया गया है। यहां बड़ी संख्या में पुलिस की तैनाती कर दी गई है। आंदोेेलनकारियों को सांसद बंगले के बाहर ही रोक दिया गया।

मोहल्लों में नुक्कड़ सभा का भी हो रहा आयोजन

आंदोलन से लोगों को जोड़ने और उनकी सहभागिता सुनिश्चित करने के लिए संघर्ष समिति ने शहर के अलग-अलग मोहल्लों में सप्ताह में एक दिन नुक्कड़ सभा का आयोजन करने का निर्णय लिया है। इसके तहत बीते एक महीने से नुक्कड़ सभा का आयोजन किया जा रहा है।

कोशिश की जा रही है कि जिस मोहल्ले में सभा का आयोजन हो उसमें मोहल्लेवासियों की सहभागिता रहे। नुक्कड़ सभा के लिए शाम छह बजे का समय निर्धारित किया गया है। खास बात ये कि अगले नुक्कड़ सभा का समय भी सभा समाप्ति के दौरान कर दिया जाता है ताकि आयोजकों को तैयारी के लिए एक सप्ताह का समय मिल जाए।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button