एनकाउंटर: माओवादियों से ली थी राजेश भारती ने ट्रेनिंग!

नई दिल्ली।

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीम द्वारा शनिवार को एनकाउंटर में मारा गया गैंगस्टर राजेश भारती जब वसूली के लिए लोगों को फोन करता था तो एक स्पेशल लाइन का इस्तेमाल करता था, ‘नमस्कार करेगा या चमत्कार देखेगा।’ अभी 2 दिन पहले ही उसने वसूली के लिए जब फोन किया था तो इस लाइन का इस्तेमाल किया था।

स्पेशल सेल के डीसीपी संजीव यादव ने कहा कि यह गैंग इस हद तक आगे बढ़ गया था कि वे अपराध वाली जगह पर हाथ से लिखे नोट छोड़ जाते थे और पीड़ितों के सामने अपनी पहचान भी उजागर कर देते थे। इनके नोट्स में लिखा होता था, हम क्रांति गैंग से हैं। हम बिजनसमैन, गैंबलर्स पर हमला करते हैं जो पब्लिक को लूटते हैं। हम किसी से नहीं डरते।’ इसके साथ ही राजेश भारती जिसे लूटता या जिस पर हमला करता था उसे अपनी पहचान बता देता था।

हरियाणा के एक किसान का बेटा राजेश तीन भाई-बहनों में सबसे छोटा था और प्राइमरी के बाद ही उसने पढ़ाई छोड़ दी थी। छोटी उम्र से ही उसने छोटी-छोटी चोरियां शुरू कर दी थी। पुलिस की एक खुफिया रिपोर्ट के अनुसार जब वह झारखंड गया था तो उसने माओवादियों से ट्रेनिंग भी ली थी। दिल्ली वापस लौटकर भारती ने मर्डर, अपहरण, वसूली, कार लूटने जैसे अपराध शुरू कर दिए।

यह गैंग नैशनल हाईवे से गुजर रही गाड़ियों को अपना निशाना बनाता था। अगर उन्हें रोका जाता था तो वे पुलिसवालों को भी गोली मारने से नहीं चूकते थे। भारती पर दिल्ली, गुड़गांव, हिसार और रोहतक में मर्डर, वसूली, अपहरण जैसे कई केस दर्ज थे। बता दें कि दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने दक्षिण दिल्ली के छतरपुर में शनिवार को एक एनकाउंटर में 4 बदमाशों को ढेर कर दिया। इस एनकाउंटर में 8 पुलिसवाले भी घायल हो गए थे।

Back to top button