बालिकाओं को प्रोत्साहित करें,  उनकी प्रतिभा को निखारें  -डी साहू

सोनू सेन:

पिथौरा: पिथौरा अंतरराष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर एनपी स्मृति फाउंडेशन एवं साहू अकादमी के संयुक्त संयोजन में प्रेरक शाला शासकीय मिडिल स्कूल कसहीबाहरा में बालिका  प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम एवं विभिन्न खेल गतिविधियों का आयोजन किया गया।

कार्यक्रम की  मुख्य अतिथि जिला पंचायत सदस्य कुमारी बाई  दीवान

कार्यक्रम की  मुख्य अतिथि जिला पंचायत सदस्य कुमारी बाई  दीवान  थीं। सभाध्यक्ष साहू अकादमी की निर्देशिका  डी साहू थीं। विशिष्ट अतिथि के रूप में मिनी गोल्फ की अंतरराष्ट्रीय महिला  खिलाड़ी कु  वंदना मिंज, एन पी स्मृति फाउंडेशन की मानद सदस्य नीलिमा पटनायक, डॉ  मृणाल चन्द्रसेन, पिथौरा संकुल समन्वयक  खगेश्वर डड़सेना, समाजसेवी जामसिंह दीवान , शिक्षाविद लेखराम देवांगन उपस्थित थे।

कार्यक्रम का शुभारंभ अतिथियों द्वारा भारत माता की तस्वीर पर दीप  प्रज्जवलित कर किया गया।

कार्यक्रम के प्रथम सत्र में बालिकाओं को छत्तीसगढ़ शासन की मंशा के अनुरूप  परंपरागत खेलों पर आधारित विभिन्न खेल गतिविधियां कराई गई जिसमें फुगड़ी, रस्सी कूद, गोटा की प्रतियोगिताओं में बालिकाओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।

फुगड़ी प्रतियोगिता में मोतिम  ध्रुव, गीतांजलि ध्रुव, रस्सी कूद में  अनीता सहिस, गीतांजलि ध्रुव, गोटा प्रतियोगिता में गीतांजलि  व द्रोपदी को विजेता घोषित किया गया तथा सम्मानित अतिथियों के द्वारा पुरस्कार  व प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

स्कूली छात्राओं के लिए  प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम का आयोजन

कार्यक्रम के दूसरे सत्र में विभिन्न विद्यालयों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले स्कूली छात्राओं के लिए  प्रतिभा सम्मान कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें कु  नेहा प्रधान को शतरंज खेल के लिए, कु पूजा यादव  को गणित विषय में विशेष दक्षता एवं निपुणता के लिए, कु  गीतांजलि डड़सेना को कला -संस्कृति के संवर्धन के लिए एवं दृष्टि हीन छात्रा कु जिया रानी ध्रुव को  भक्तिपूर्ण गीत- संगीत के लिए मोमेंटो एवं   अभिनंदन पत्र से सम्मानित किया गया।

होनहार बालिकाओं को सम्मानित करते हुए गर्व

महासमुन्द से पधारे  डॉ मृणाल चंद्रसेन ने कहा कि विश्व बालिका दिवस पर हम होनहार बालिकाओं को सम्मानित करते हुए गर्व महसूस करते है। ऐसे प्रतिभावन बालिकाएँ ही सम्पूर्ण विश्व में ख्याति अर्जित करती हैं। रुचि, लगन, मेहनत से ही विशिष्टता मिलती है। भविष्य में इस आयोजन को वृहद रूप से अन्य शहरों में भी  करेंगे। बालिकाओं के प्रति सामाजिक नजरिया बदलें इसके लिए हम प्रयास कर रहे हैं।

अपने आशीर्वाद उदबोधन  में मुख्य अतिथि श्रीमती कुमारी बाई जामसिंह दीवान ने  कहा कि आज बालिकाएं हर दिशा में कामयाबी हासिल कर रही हैं। इसके पीछे हमारे शिक्षकों एवं समाजिक संस्थाओं का योगदान है। 

रायगढ़ से पधारे विशिष्ट अतिथि मिनी गोल्फ के  अंतरराष्ट्रीय महिला  खिलाड़ी कु  वंदना मिंज  ने कहा कि आज बालिकाएं खेल गतिविधियों में सम्मिलित होकर अपने कैरियर का निर्माण कर सकती हैं। हमें अपनी  रुचि  के अनुसार खेल गतिविधियों में  किसी एक विधा को कॅरियर के रुप मे स्वीकार करना चाहिए।

एन पी स्मृति फाउंडेशन की नीलिमा पटनायक ने कहा

एन पी स्मृति फाउंडेशन की नीलिमा पटनायक ने कहा कि ग्रामीण परिवेश में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है बल्कि उनका उचित मार्गदर्शन कर उन्हें प्रेरित करने की जरूरत है। पिथौरा  के संकुल समन्वयक खगेश्वर डड़सेना   ने कहा कि  बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ अभियान एक सार्थक प्रयास है और इसमें सभी व्यक्तियों  को अपना योगदान देना चाहिए।

बालिका शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए नवोदय, प्रयास जैसे स्कूलों में प्रवेश एवं तैयारी के लिए निशुल्क प्रशिक्षण की व्यवस्था  शासन द्वारा की गई   है इसका लाभ उठाना चाहिए। प्रति रविवार को कन्या शाला पिथौरा में विषय विशेषज्ञों द्वारा मार्गदर्शन दिया जाता है।

सभाध्यक्ष डॉ डी साहू ने कहा कि बालिकाओं को हमेशा प्रोत्साहन देना चाहिए। उनकी रुचि के  अनुसार प्रतिभा को निखारने के प्रयास करना चाहिए।

शिक्षा के अलावा अन्य गतिविधियों में  उनकी सहभागिता बहुत जरूरी

शिक्षा के अलावा अन्य गतिविधियों में  उनकी सहभागिता बहुत जरूरी है। उन्होंने बालिका शिक्षा प्रोत्साहन के लिए विशेष पहल करते हुए  जरूरत मेधावी छात्रा कु पूजा यादव को हॉस्टल से  स्कूल जाने के लिए साइकिल उपहार स्वरूप देने की घोषणा की।

शिक्षा में उनके अनूठे प्रयास को  अतिथियों ने सराहा। इसके अलावा भारतीय मिनी गोल्फ इंडिया टीम के कैप्टन भूपेंद्र प्रसाद, मिनी गोल्फ के अंतरराष्ट्रीय  खिलाड़ी टेक नारायण पटेल, समाजसेवी जाम सिंह दीवान ने भी बालिकाओं को संबोधित कर प्रोत्साहित किया।

महासमुन्द डाइट के प्राचार्य एवं संडे की पाठशाला के मार्गदर्शक पी एस श्याम के आकस्मिक निधन से उनके योगदान को स्मरण करते हुए शाला परिवार की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की गई।

कार्यक्रम का संचालन विशेष  सहज शिक्षक बीजू पटनायक  ने तथा आभार प्रदर्शन संस्था प्रभारी हेमन्त खुटे ने किया।

कार्यक्रम के अंत में आमंत्रित अतिथियों द्वारा शाला परिसर पर फलदार पौधे का रोपण किया गया। समस्त अतिथियों एवं सम्मानित प्रतिभाओं को स्मृति चिन्ह के साथ भेंट स्वरूप संस्था प्रमुख हेमन्त खुटे द्वारा  फलदार एवं छायादार  पौधे भेंट किए गए ।

Back to top button