किसानों को तिलहन-दलहन फसल लेने के लिए प्रोत्साहित करें : ब्रजेश चन्द्र मिश्रा

रायपुर : आयुक्त रायपुर संभाग ब्रजेश चंद्र मिश्रा की अध्यक्षता में जल संसाधन विभाग के डाटा सेंटर सिहावा भवन में संभागीय जल उपयोगिता समिति की बैठक संपन्न हुई।

इस अवसर पर विधायकगण सत्यनारायण शर्मा, गुरूमुख सिंह होरा, धनेन्द्र साहू, श्रवण मरकाम भी उपस्थित थे। समिति के सदस्य सचिव द्वारा अवगत कराया गया कि रविशंकर सागर परियोजना समूह की भण्डारण क्षमता कुल 1393.02 मि.घ.मी. है। जिसके विरूद्ध 392.78 मि.घ.मी. पानी उपलब्ध है जोकि कुल भण्डारण क्षमता का 28 प्रतिशत है।

जिसे निस्तार एवं पेयजल उपयोग हेतु सुरक्षित रखा गया है। वर्ष 2017-18 में 259828 हेक्टेयर लक्ष्य के विरूद्ध 171577 हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ सिंचाई की गई। कोडार जलाशय की कुल भण्डारण क्षमता 160.35 मि.घ.मी. है एवं वर्तमान में 31.92 मि.घ.मी. जल उपलब्ध है जो कि जल भण्डारण क्षमता का 21 प्रतिशत है जिसे निस्तार, पेयजल एवं औद्योगिक उपयोग हेतु सुरक्षित रखा गया है। वर्ष 2017-18 में 16500 हेक्टेयर खरीफ लक्ष्य के विरूद्ध 13976 हेक्टेयर में सिंचाई की गई। सिकाकार जलाशय की कुल भण्डारण क्षमता 198.88 मि.घ.मी. है जिसके विरूद्ध 197.86 मि.घ.मी. पानी उपलब्ध है जो कि कुल भण्डारण क्षमता का 99.46 प्रतिशत है।

वर्ष 2017-18 में 37918 हेक्टेयर खरीफ लक्ष्य के विरूद्ध 36648 हेक्टेयर में खरीफ सिंचाई की गई एवं उपलब्ध जल को निस्तार एवं पेयजल के अतिरिक्त 2000 हेक्टेयर में दलहन-तिलहन फसल हेतु पानी दिए जाने का निर्णय लिया गया। जलाशयों में उपलब्ध जल के उपयोग पर विस्तृत चर्चा हुई तथा आयुक्त मिश्रा द्वारा जलाशयों में उपलब्ध जल की मात्रा को देखते हुए किसानों को तिलहन-दलहन फसल लेने के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए गये तथा सूखा प्रभावित क्षेत्र में पेयजल एवं निस्तार को प्राथमिकता देते हुए रबी फसल हेतु पानी लेने के लिए जिला स्तर पर कलेक्टर को नियमत् कार्यवाही करने हेतु निर्देशित किया गया।

विधायक धनेन्द्र साहू द्वारा अल्पवर्षा की स्थिति के कारण निस्तारी की समस्या को ध्यान में रखकर गंगरेल जलाशय में उपलब्ध पानी को निस्तारी हेतु दो बार में दिये जाने का सुझाव दिया गया। आयुक्त द्वारा निर्देशित किया गया कि, निजी उद्योग द्वारा भू-जल के पानी का उपयोग का कलेक्टर द्वारा आंकलन कर उचित निर्णय लिए जाने हेतु निर्देश दिए गए।

समिति के सदस्यों द्वारा दिये गये सुझाव पर आयुक्त श्री मिश्रा ने नदी में किये जा रहे अवैध रेत उत्खनन तथा नदी के भीतर से मशीन द्वारा रेत उत्खनन पर रोग लगाये जाने हेतु कलेक्टरों को कार्यवाही करने के निर्देश दिए। विधायक श्री सत्यनारायण शर्मा द्वारा शहर के तालाबों में पानी भरने के लिए विकल्प निकालने हेतु सुझाव दिये गये। बैठक में विभिन्न जिलों के अपर कलेक्टर, जल संसाधन मंडल के अधीक्षण यंत्री पी.के. वर्मा सहित संबंधित विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

Back to top button