शासकीय भूमि में अतिक्रमण, शासकीय अधिकारियों की उदासीनता

रवि सेन

बागबाहरा। नगर में धड़ल्ले से हो रहे शासकीय भूमि में अतिक्रमण और शासकीय अधिकारियों के उदासीनता के चलते संरक्षण नहीं हो रहा है जिसके कारण शासकीय निर्माण कार्यों के लिए जमीन नगर में नही बच रही है। बता दें कि नगर में संचालित कुछ शासकीय कार्यालय उद्यानिकी विभाग, महिला बाल विकास, आबकारी सहित अन्य विभाग किराए के मकान या अन्य भवनों में संचालित हो रहे है।

शासकीय भूमि पर हो रहे लगातार अतिक्रमण का विरोध करते हुए वार्ड क्रमांक 14 के पार्षद नंदू सोनी ने नेशनल हाइवे 353 में वन काष्ठागार के पास एक अज्ञात व्यकि द्वारा लगभग 10000 वर्ग फिट से भी बड़े जमीन पर कब्जा कर दीवाल घेर कर कब्जा करने की लिखित शिकायत नगर पालिका बागबाहरा, तहसीलदार बागबाहरा , अनुविभागीय अधिकारी राजस्व को दी है लेकिन अब तक इस कब्जाधारी के ऊपर कोई कार्यवाही नही की गई है।

गौरतलब हो कि अगर ऐसे ही शासकीय भूमि पर अतिक्रमण होता रहा तो शासन द्वारा संचालित योजना प्रधानमंत्री आवास योजना एवम अन्य जनकल्याणकारी योजनाओं के लिए जमीन नही बच पाएगी।

अमरनाथ दुबे (सीएमओ बागबाहरा) – पार्षद की शिकायत पर हमारे द्वारा कब्जाधारी को 2 नोटिस दिया गया है तीसरी नोटिस के बाद शासकीय जमीन से कब्जा विधिवत हटाया जाएगा।

Back to top button