मनोरंजन

प्रवर्तन निदेशालय ने करीना कपूर के कजिन अरमान जैन को किया समन

अरमान को टॉप्स ग्रुप के केस में पूछताछ के लिए समन भेजा गया

मुंबई: टॉप्स ग्रुप के केस में पूछताछ के लिए बॉलीवुड एक्ट्रेस करीना कपूर के कजिन और रीमा जैन के बेटे अरमान जैन को प्रवर्तन निदेशालय यानी ईडी ने समन भेजा है. इस केस में मंगलवार को ईडी के अधिकारीयों ने अरमान जैन के साउथ मुंबई स्थित Altamount रोड स्थित घर पर छानबीन भी की थी.

विहंग सरनाईक से है अरमान की दोस्ती

रणबीर कपूर और करीना कपूर खान के कजिन अरमान जैन को फिल्म लेकर हम दीवाना दिल में देखा गया था. अरमान जैन ने स्टूडेंट ऑफ द ईयर, एक मैं और एक तू और माय नेम इज खान जैसी फिल्मों में बतौर अस्सिटेंट डायरेक्टर काम किया है. इस केस में अरमान जैन का नाम शिव सेना के एमएलए प्रताप सरनाईक के बेटे विहंग की वजह से आया.

विहंग की जांच भी इस केस में हो रही है. अरमान जैन की दोस्ती विहंग के साथ गहरी है और इसी के चलते उन्हें भी जांच में शामिल किया गया है. विहंग से इस केस में दो बार पूछताछ की जा चुकी है. पूछताछ के दौरान विहंग के फोन का डेटा भी ईडी के अधिकारीयों ने लिया है. सूत्रों के मुताबिक, जैन और विहंग के बीच कुछ संदेहजनक बातें सामने आई थीं, जिनके बाद अरमान जैन के घर की छानबीन की गई.

प्रताप सरनाईक और उनके छोटे बेटे पुरवेश से भी पूछताछ की गई है. नवंबर 2020 में ईडी के अधिकारीयों ने सरनाईक के थाणे स्थित घर पर रेड की थी, जिसके बाद विहंग को ईडी के ऑफिस लाया गया था. विहंग से Tops Grup और सरनाईक के करीबियों के बीच हुए पैसों लेनदेन को लेकर पूछताछ की गई थी.

ऐसे शुरू हुआ केस

बता दें कि टॉप्स ग्रुप को MMRDA से साइट्स की सिक्योरिटी का बड़ा कॉन्ट्रैक्ट मिला था. इसमें MMRDA की साइट्स पर कंस्ट्रक्शन पर ध्यान देना था. इस ग्रुप के एक अधिकारी ने इल्जाम लगाया कि सिक्योरिटी गार्ड्स पेपर पर जितने बताए गए हैं उससे काफी कम हैं. इससे MMRDA का करोड़ों का नुक्सान हुआ और सरनाईक, जिन्होंने कथित तौर पर टॉप्स ग्रुप को यह कॉन्ट्रैक्ट दिलवाया था, जो MMRDA फर्म से मुंह की खानी पड़ी.

खबर है कि ईडी ने सरनाईक के करीबी माने जाने वाले अमित चंदोली नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है. साथ ही उनके जीजा योगेश चंदगाला और करीबी दोस्त संकेत मोरे से भी पूछताछ की गई है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button