इंजीनियर्स डे: गूगल ने डूडल बनाकर भारतरत्न विश्वेश्वरैया को किया याद

1955 में विश्वेश्वरैया को भारतरत्न से किया गया था सम्मानित

नई दिल्ली। शनिवार को गूगल ने भारतीय विकास के जनक मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की 157वीं जयंती पर डूडल बनाकर उन्हें याद किया है।

रत्न मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की जयंती 15 सितंबर को पूरे देश में ‘इंजीनियर्स डे यानी’ ‘अभियंता दिवस’ के रूप में भी मनाई जाती है।

विश्वेश्वरैया का जन्म 15 सितंबर 1861 को मैसूर (कर्नाटक) के कोलार जिले के चिक्काबल्लापुर तालुका में हुआ था।

विश्वेश्वरैया भारत के माने हुए सफल इंजीनियर, विद्वान थे। भारत के निर्माण में उनके योगदान को देखते हुए उन्हें वर्ष 1955 में देश के सर्वोच्च सम्मान ‘भारत रत्न’ से अलंकृत किया गया था।

भारत में उनका जन्मदिन अभियन्ता दिवस के रूप में मनाया जाता है। जनता की सेवा के लिए ब्रिटिश सरकार ने उन्हें ‘नाइट कमांडर ऑफ़ द ब्रिटिश इंडियन एम्पायर’ (KCIE) से सम्मानित किया।

वो हैदराबाद शहर के बाढ़ सुरक्षा प्रणाली के मुख्य डिज़ाइनर थे और मुख्य अभियंता के तौर पर मैसोर के कृष्ण सागर बाँध के निर्माण में मुख्या भूमिका निभाई थी।

उनके पिता का नाम श्रीनिवास शास्त्री तथा माता का नाम वेंकाचम्मा था। पिता संस्कृत के विद्वान थे। विश्वेश्वरैया ईमानदारी, त्याग, मेहनत इत्यादि जैसे गुणों से संपन्न थे।

उनका कहना था, कार्य जो भी हो लेकिन वह इस ढंग से किया गया हो कि वो दूसरों के कार्य से श्रेष्ठ हो।

यही नहीं वो मैसूर के 19वीं दीवान (1912-1918) भी रहे। 1962 में 101 की उम्र में 14 अप्रैल 1962 को विश्वेश्वरैया का निधन हो गया।

Tags
Back to top button