इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप: भारत लगातार मुश्किल में, मिला में कठिन ड्रॉ

क्योंकि भारतीय खिलाड़ियों को इस वर्ल्ड टूर सुपर 100 चैंपियनशिप में कठिन ड्रॉ मिला हैं।

भारत के लिए इस बार भी ऑल इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियनशिप में 18 साल के खिताबी सूखे को समाप्त करना मुश्किल दिख रहा है|

क्योंकि भारतीय खिलाड़ियों को इस वर्ल्ड टूर सुपर 100 चैंपियनशिप में कठिन ड्रॉ मिला हैं।

भारत की दिग्गज खिलाड़ियों पीवी सिंधु और साइना नेहवाल की राह इस टूर्नामेंट में आसान नहीं दिख रही है।

ओलिंपिक और विश्व चैंपियनशिप की रजत पदक विजेता सिंधु को पहले दौर में द. कोरिया की सुंग जी हुआन से भिड़ना होगा|

जबकि इंडोनेशिया मास्टर्स चैंपियन साइना का सामना स्कॉटलैंड की क्रिस्टी गिलमौर से होगा।

सिंधु और साइना इस वक्त राष्ट्रीय चैंपियनशिप में हिस्सा ले रही हैं और यहां से सीधे 6 मार्च से होने वाले टूर्नामेंट के लिए बर्मिंघम पहुंचेंगी।

सिंधु को पिछले साल हांगकांग ओपन में हुआन ने पराजित किया था। पहले दौर का मैच जीतने पर इस भारतीय खिलाड़ी को क्वार्टर फाइनल में तीसरे क्रम की चेन यूफेई से होगा।

दुनिया की पूर्व नंबर वन साइना 2015 में ऑल इंग्लैंड ओपन के फाइनल में पहुंची थी।

वे इस साल मलेशिया मास्टर्स के सेमीफाइनल में पहुंची और इंडोनेशिया मास्टर्स में उन्होंने खिताब जीता था।

साइना का क्वार्टर फाइनल में दुनिया की नंबर वन ताई जू यिंग से मुकाबला संभावित है। चीनी ताइपे की यिंग ने पिछले 11 मैचों में साइना को हराया है।

भारतीय खिलाड़ियों के अवसर इसलिए बढ़ गए क्योंकि तीन बार की विश्व चैंपियन केरोलिना मारिन चोट की वजह से इस टूर्नामेंट में नहीं खेल रही है।

पुरुषों के वर्ग में किदांबी श्रीकांत को पहले दौर में फ्रांस के ब्राइस लेवरडेज से भिड़ना होगा। श्रीकांत टखने की चोट के चलते राष्ट्रीय चैंपियनशिप में नहीं खेल रहे हैं।

उनका क्वार्टर फाइनल में विश्व के नंबर वन केंटो मोमोटा से मुकाबला हो सकता है। पिछले सत्र में श्रीकांत पांच बार मोमोटा से हार चुके हैं।

समीर वर्मा को पूर्व विश्व नंबर वन विक्टर एक्सेलसेन का सामना करना होगा। भारत के बी साई प्रणीत का मुकाबला अपने ही देश के एचएस प्रणय से होगा।

Back to top button