खेल

शेफील्ड शील्ड टूर्नामेंट से हटेगा इंग्लिश ड्यूक्स क्रिकेट बॉल

पूरे प्रथम श्रेणी के अभियान के दौरान किया जाएगा कूकाबुरा गेंद का उपयोग

नई दिल्ली: खिलाड़ियों को अंग्रेजी परिस्थितियों के लिए तैयार करने में मदद करने के लिए क्रिसमस के बाद आयोजित शेफील्ड शील्ड मैचों में 2016-17 सीज़न के बाद से उपयोग में लाये जाने वाले इंग्लिश ड्यूक्स क्रिकेट बॉल का इस्तेमाल इस समर में होने वाले टूर्नामेंट में नहीं होगा।

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने पुष्टि की है कि कूकाबुरा गेंद का उपयोग पूरे प्रथम श्रेणी के अभियान के दौरान किया जाएगा। इसके पीछे कारण ये भी है कि ऑस्ट्रेलिया में जो भी टेस्ट सीरीज होती है उसमें कूकाबुरा की गेंद का इस्तेमाल होता है। ऐसे में घरेलू स्तर पर भी इसी गेंद का इस्तेमाल होना चाहिए, जिससे कंगारू खिलाड़ियों को फायदा होगा।

सीए टीम-परफॉर्मेंस के मुखिया पैट हावर्ड ने इंग्लैंड में ऑस्ट्रेलिया के प्रदर्शन पर आलोचना के बाद आ रहे बदलाव को स्वीकार कर लिया है, जहां अब वह 2001 से एशेज सीरीज नहीं जीत सका है।

गेंदें(कूकाबुरा और ड्यूक्स) काफी समान नहीं थीं, हालांकि ऑस्ट्रेलिया में इस्तेमाल होने वाले लोगों को स्थानीय परिस्थितियों से निपटने के लिए निर्मित किया गया था, लेकिन द एज और सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड खिलाड़ी की आलोचना को समझते हैं।

गेंद को बिगाड़कर स्विंग के लिए तैयार करने में भी समय लग रहा था और स्पिनरों को इस्तेमाल करने के लिए प्रोत्साहित नहीं किया। ऐसे में सीए ने इस परिवर्तन को दिया। अगली एशेज सीरीज में क्या कूकाबुरा गेंद का इस्तेमाल होगा। इस पर फैसला लेने के लिए अभी 3 साल का समय है।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button