छत्तीसगढ़

सबरीमाला मंदिर में बंद हुआ आम लोगों का प्रवेश

बाढ़ के चलते सौ करोड़ का नुकसान

सबरीमाला। केरल का प्रसिद्ध सबरीमाला मंदिर जनता के लिए अगले आदेश तक बंद रहेगा। पम्पा नदी का जलस्तर बढ़ने पर इसे बंद रखने का फैसला किया गया है। मंदिर को बाढ़ के कारण बंद कर दिया गया था। मंदिर प्रशासन के अनुसार, बाढ़ के कारण मंदिर को 100 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। इन दिनों प्रदेश के अधिकांश इलाकों में बाढ़ का कहर है और राज्य में करीब पौने चार सौ लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं हजारों घरों को भी नुकसान पहुंचा है।

त्रावणकोर देवासम बोर्ड के अध्यक्ष ए पद्मकुमार ने मीडिया को बताया कि उनके पास मंदिर को बंद रखने के अलावा कोई विकल्प नहीं है। सबरीगिरि परियोजना के हिस्से के तहत दो बांधों के गेट भारी बारिश के बाद खोल दिए गए थे, जिससे आसपास के स्थानों में बाढ़ आ गई। मंदिर में हालांकि पारंपरिक तरह से पूजा होगी।

श्रद्धालुओं ने रद्द की तीर्थयात्रा
इस निर्णय के बाद तमिलनाडु के कई श्रद्धालुओं ने अपनी तीर्थयात्रा रद्द कर दी है। मंदिर केवल नवंबर के मध्य से जनवरी के मध्य तक खुला रहता है लेकिन कई सालों से यह हर मलयालम महीने की शुरूआत में कुछ दिनों के लिए खुला रहता है।

महिलाओं के प्रवेश को लेकर रहा था चर्चाओ में
सबरीमाला मंदिर दक्षिण के सबसे प्रमुख मंदिरों में शुमार है। लंबे अरसे से यह महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध को लेकर भी चर्चा में रहा है। दरअसल यहां 10 से 50 साल की उम्र तक की महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा हुआ है। बीते दिनों इस परंपरा का काफी विरोध हुआ था। फिलहाल यह विवाद भी जारी है।

Back to top button