एरिक्सन मामला: अनिल अंबानी को 550 करोड़ रूपए लौटाने के निर्देश, नहीं तो जाना होगा जेल

अगर अनिल अंबानी पैसे नहीं लौटा पाएं तो उन्हें 3 महीने जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है और साथ ही 1 करोड़ का जुर्माना भी लगेगा

नई दिल्ली

रिलायंस समूह के अध्यक्ष अनिल अंबानी और अन्य के खिलाफ बकाया भुगतान नहीं करने पर तीन अवमानना याचिकाओं पर उच्चतम न्यायालय आज फैसला सुनाया। टेलीकॉम उपकरण निर्माता एरिक्सन की तरफ से यह याचिका दायर की गई थी।

इससे अनिल अंबानी की मुसीबत और बढ़ गई। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें 550 करोड़ रूपए लौटाने के निर्देश दिए हैं। अगर अनिल अंबानी पैसे नहीं लौटा पाएं तो उन्हें 3 महीने जेल की हवा भी खानी पड़ सकती है और साथ ही 1 करोड़ का जुर्माना भी लगेगा।

न्यायमूर्ति आर एफ नरीमन और विनीत सरन की पीठ ने 13 फरवरी को अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था जब एरिक्सन इंडिया ने आरोप लगाया था कि रिलायंस ग्रुप के पास राफेल विमान सौदे में निवेश के लिए रकम है लेकिन वे उसके 550 करोड़ के बकाए का भुगतान करने में असमर्थ हैं।

क्या है विवाद

एरिक्सन ने 2014 में आरकॉम से एक डील की थी। जिसके मुताबिक, आने वाले 7 साल के लिए एरिक्सन को आरकॉम टेलिकॉम के नेटवर्क को मैनेज करना था लेकिन इसी बीच स्थिति बिगड़ गई और एरिक्सन ने नैशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्राइब्यूनल (NCLAT) का रुख किया और बताया कि आरकॉम पर उनका 1100 करोड़ रुपए बकाया है।

इस पर एसबीआई ने एरिक्सन के क्लेम का विरोध किया और कहा कि आरकॉम के खिलाफ इन्सॉलवंसी प्रसीडिंग आगे बढ़ी तो पब्लिक सेक्टर के 14 बैंकों का हजारों करोड़ रुपया डूब सकता है।

इस बीच एरिक्सन ने ब्रूकफील्ड के साथ डील की दलील दी और 550 करोड़ रुपए एरिक्सन को देने की बात कही। हालांकि, RCom ने एरिक्सन को अभी तक भुगतान नहीं किया है।

Back to top button